पीएम के सिंगापूर पहुंचते ही टूटा पर्यटन का रिकॉर्ड, 2 लाख भारतीय पहुंचे ‘टूरिस्ट हैवेन’

मनोज द्विवेदी 
नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सिंगापूर दौरे के समय करीब दो लाख भारतीय पर्यटक वहां मौजूद हैं. हर महीने दुनिया भर से करीब 10-15 लाख पर्यटक सिंगापूर पहुंचते हैं जिसमें एक लाख से ज्यादा भारतीय होते हैं. लेकिन पीएम दौरे एक समय भारतीय पर्यटकों का सिंगापूर पहुंचने का रिकॉर्ड टूट गया. क्यों लाखों भारतीय हर महीने पहुंचते हैं सिंगापुर? बता रहा है newstrack.com
लगातार बढ़े पर्यटक 
2017 में अकेले भारत से 10 लाख 27 हजार से ज्यादा भारतीय पर्यटक सिंगापुर पहुंचे। 2018 में मार्च तक के आंकड़े मौजूद हैं और उसके अनुसार जनवरी, फरवरी और मार्च में हर महीने एक लाख से ज्यादा लोग सिंगापुर घूमने पहुंचे। सिंगापुर टूरिस्ट बोर्ड के अधिकारीयों की मानें तो हर वर्ष करीब 16% ज्यादा भारतीय सिंगापुर का रुख कर रहे हैं. प्रधानमन्त्री के दौरे के समय टूरिस्टों की संख्या में अचानक उछाल आया है और एक अनुमान के अनुसार अकेले मई महीने में दो लाख भारतीय पर्यटक सिंगापुर पहुंचे हैं. विज़िटर अराइवल की बात करें तो अब भारत, चीन और इंडोनेशिया के बाद सिंगापुर पहुंचने वाला तीसरा सबसे बड़ा देश बन गया है.
बड़े शहरों में हुए रोड शो 
सिंगापुर में भारतीय पर्यटकों को लुभाने के लिए देश के विभिन्न शहरों में कई रोड शो आयोजित किये गए. सिंगापुर पर्यटन बोर्ड की मानें तो ऐसे रोड शो दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, जयपुर, अहमदाबाद, कोयम्बत्तूर, हैदराबाद, कोलकाता और पुणे में आयोजित किये गए. जिसका नतीजा यह रहा कि इन शहरों से सिंगापुर पहुंचने वाले पर्यटकों की संख्या में दो गुनी वृद्धि हो गई. अब बोर्ड अन्य प्रमुख शहरों में ऐसे ही रोड शो आयोजित करने की योजना बना रहा है. ऐसे ही प्रमोशनों की वजह से पर्यटकों की संख्या में 25% तक की वृद्धि दर्ज की गई है. सिंगापुर पर्यटन बोर्ड बॉलिवुड के निर्माताओं को भी विशेष ऑफर देता है जिससे उनके यहां शूटिंग करने वालों की संख्या बढ़ पाए.
टॉप पर है इंडिया 
सिंगापुर घूमने पहुंचने वाले पर्यटकों में सबसे ज्यादा संख्या भारतीयों की है. बोर्ड के आंकड़े बताते हैं प्रतिवर्ष यहां करीब 15 लाख पर्यटक आते हैं. जिसमें साउथ ईस्ट एशिया यानि आसपास के देशों से करीब 5 लाख पर्यटक यहां आते हैं. इसके अलावा चीन से करीब तीन लाख, जापान से डेढ़ लाख और भारत से भी एक लाख से ज्यादा लोग यहां जाते हैं. इनमें से भी करीब 85 हजार पर्यटक हवाई मार्ग से, 15 हजार क्रूज और अन्य समुद्री जहाजों से और 10 से 15 हजार लोग सड़क और रेल मार्ग से सिंगापुर पहुंचते हैं. यदि हम अपने पडोसी देशों की बात करें तो पाकिस्तान से हर महीने मात्र दो हजार लोग और बांग्लादेश, श्रीलंका से 5 हजार लोग ही यहां जाते हैं.
शानदार होती हैं रातें 
सिंगापुर में वैसे तो घूमने के लिए बहुत सी जगहें मौजूद हैं. जिसमें सिंगापुर जू, जुरोंग बर्ड पार्क, रैप्टाइल पार्क में जानवरों के हैरतअंगेज कारनामें, थ्रीडी संग्रहालय, म्यूजियम, टाइगर स्काई टावर, बेहतरीन समुद्री बीच. सबकुछ है यहां लेकिन सबसे मशहूर हैं सिंगापूर की रातें। सिंगापुर ‘रात्रि जीवन’ के लिए पूरी दुनिया के 5 मशहूर देशों में एक है. बोट द्वारा सिंगापुर की सैर का अलग ही मजा है. ये बोट सिंगापुर नदी के आरंभ स्थल पर उपलब्ध रहती हैं. ये बोट पूरी तरह से ढकी हुई बंद होती हैं. इन बोटों में पब्स, रैस्टोरैंट तथा ‘बार’ भी हैं. खाना खाने के बाद पर्यटक यहां गानों की धुन पर नृत्य का आनंद उठाते हैं.
सिंगापुर कैसे पहुंचे
सिंगापुर का वीजा सिंगापुर दूतावास से आसानी से प्राप्त किया जा सकता है या फिर किसी भी ट्रैवल एजेंसी से 2,500 से तीन हजार रुपए दे कर 10 सालों का वीजा प्राप्त किया जा सकता है. कुछ विमान कोलकाता से जाते हैं जिनका किराया कम है. साथ ही दक्षिण भारत के चेन्नई, बंगलुरु जैसे शहरों से हर घंटे पर फ्लाइट है. इसके आलावा देश में काम कर रही ज्यादातर ट्रेवल एजेंसियां सिंगापुर के लिए अलग-अलग पैकेज और ऑफर देती हैं.
    Tags: