राहुल को छठी लाईन में बैठाने पर विवाद, कांग्रेस ने लगाया ओछी राजनीति का आरोप

गणतंत्र दिवस परेड के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को पीछे की पंक्ति में सीट मिलने पर विवाद खड़ा हो गया है। कांग्रेस और बीजेपी इस मामले में आमने-सामने आ गए हैं। कांग्रेस इस मामले को तूल देने में लगी है तो बीजेपी ने भी पुराने दिन याद दिलाते हुए पलटवार किया है।

Published by priyankajoshi Published: January 27, 2018 | 12:58 pm
Modified: January 27, 2018 | 1:02 pm

नई दिल्ली: गणतंत्र दिवस परेड के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को पीछे की पंक्ति में सीट मिलने पर विवाद खड़ा हो गया है। कांग्रेस और बीजेपी इस मामले में आमने-सामने आ गए हैं। कांग्रेस इस मामले को तूल देने में लगी है तो बीजेपी ने भी पुराने दिन याद दिलाते हुए पलटवार किया है।

बीजेपी ने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए शनिवार को कहा कि उनकी पार्टी के पूर्व अध्यक्षों को तो विशिष्ट दीर्घा तक में जगह नहीं दी जाती थी। बीजेपी के प्रवक्ता अनिल बलूनी ने सवाल किया, ‘कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार के कार्यकाल में गणतंत्र दिवस समारोह में बीजेपी अध्यक्ष के तौर पर राजनाथ सिंह और नितिन गडकरी को कहां बैठाया जाता था। दूसरी ओर एक अन्य प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा का कहना था कि राहुल गांधी पहली या दूसरी पंक्ति में बैठाए जाने के लायक नहीं हैं।

राहुल गांधी राजपथ पर आयोजित समारोह में छठी पंक्ति में बैठे थे, जिस पर कांग्रेस ने ओछी राजनीति का आरोप लगाया है। हालांकि, सरकारी सूत्रों ने ये भी बताया है कि प्रोटोकॉल के तहत विपक्ष के नेता को सातवीं पंक्ति में सीट दी जाती है। राहुल गांधी को पहले चौथी पंक्ति की सीट आवंटित की गई थी, लेकिन बाद में SPG की अपील पर बदल दी गई। इसके बाद राहुल गांधी को चौथी के बजाय छठी कतार में बैठना पड़ा। सूत्रों का कहना है कि SPG ने सुरक्षा कारणों के चलते राहुल को ये सीट देने की अपील की थी।