केंद्र सरकार और RBI के बीच मतभेद जारी, उर्जित पटेल पर मंडरा रहा ये खतरा

नई दिल्ली: केंद्र सरकार और आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल के बीच नीतिगत मुद्दों को लेकर मतभेद होने की खबर सामने आ रही है। वैसे ये नया मामला नहीं है। काफी समय से दोनों के बीच तनाव की खबरें आ रही हैं। वहीं, इस मामले को लेकर टीओआई का कहना है कि सरकार और आरबीआई के बीच इस साल के शुरुआत से ही संबंध अच्छे नहीं थे। दोनों ओर से ज्यादा बात नहीं की जा रही है।

यह भी पढ़ें: यूपी विधानसभा के सामने आत्मदाह की कोशिश, तस्वीरों में देखिए क्या हुआ

उधर, आरबीआई के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने इस मामले पर चिंता जताते हुए कहा कि आरबीआई की स्वायत्तता पर चोट किसी के हक में नहीं होगी। उन्होंने ये भी कहा कि जिस तरह से केंद्र सरकार आरबीआई के काम में दखल दे रही है, उस तरह से बैंक की स्वायत्तता पर अच्छा-खासा प्रभाव पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें: राहुल गांधी इंदौर पहुंचे, महाकाल की पूजा कर शुरू करेंगे दौरा

विरल ने आगे कहा कि बैंक चाहता है कि इकोनॉमी में सुधार आए। इसके लिए बैंक सरकार से थोड़ा दूरी बनाना चाहता है लेकिन सरकार की बैंक के कामों में दखलंदाजी काफी बढ़ गई। सरकार इसे कम करने के मूड में नहीं दिख रही, जबकि यह बिल्कुल ठीक बात नहीं है। एक बात ये भी है कि जिस तरह से बैंक और सरकार के बीच तनाव बना हुआ है, उसका असर उर्जित पटेल के भविष्य पर भी पड़ सकता है।

यह भी पढ़ें: UN के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने श्रीलंका के राजनीतिक संकट पर चिंता जताई

दरअसल, उर्जित पटेल के तीन साल 2019 सितंबर में पूरे होने वाले हैं। ऐसी स्थिति में अब खतरा इस बात है कि उनके सेवा विस्तार और बाकी कार्यकाल का क्या होगा। सरकार और बैंक के बीच हुए मतभेद के दौरान ये बातें भी उठ रही हैं कि उर्जित से बेहतर गवर्नर रघुराम राजन थे।

यह भी पढ़ें: बॉलीवुड के 5 सुपरस्टार हैं गंजे, नकली बाल लगाकर बनते हैं हीरो

ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि उर्जित चाहते हैं कि सरकारी बैंकों पर नजर रखने के लिए आरबीआई को और शक्तिशाली बनाना चाहिए, जबकि साल के शुरुआत से ही केंद्र सरकार की दखलंदाजी बैंक के कामों में काफी बढ़ गई है। एक कारण ये भी है, जिसकी वजह से तमाम लोग उर्जित पटेल पर निशाना साध रहे हैं।