इस श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर करेंगे यह उपाय तो झमाझम बरसेगा धन

Published by Published: August 11, 2017 | 3:55 pm

सहारनपुर: आगामी 14 अगस्त को पूरे देश में नंद के लाल श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव मनाया जाएगा। इस पूर्व को मनाए जाने को लेकर जहां मंदिरों और श्रीकृष्ण के धाम में जन्माष्टमी पर्व मनाए जाने की तैयारी शुरु हो गई है, वहीं श्रीकृष्ण को झूला झुलाने के लिए बाजार भी पूरी तरह से तैयार हैं।

श्री बालाजी धाम सहारनपुर के संस्थापक गुरु श्री अतुल जोशी जी महाराज के अनुसार यूं तो श्रीकृष्ण जन्मोत्सव पर कान्हा को केवल उपहार ही प्रदान किए जाने चाहिए क्योंकि इस दिन उनका जन्म होता है। लेकिन इसके बावजूद श्रीकृष्ण जन्मोत्सव पर कुछ खास उपाय किए जाए तो मानव अपनी कई मनोकामना की पूर्ति कर सकता है।

किसी भी सिद्धि प्राप्ति या मनोकामना पूर्ति के लिए चार रात्रियां सर्वश्रेष्ठ हैं। इनमें से जन्माष्टमी भी एक है। जन्माष्टमी पर आप ये उपाय कर सकते हैं-
-आमदनी नहीं बढ़ रही है या नौकरी में प्रमोशन नहीं हो रहा है तो जन्माष्टमी पर 7 कन्याओं को घर बुलाकर खीर या सफेद मिठाई खिलाएं। इसके बाद लगातार पांच शुक्रवार तक सात कन्याओं को खीर बांटें।

आगे की स्लाइड में जानिए धन प्राप्ति के लिए कौन से करें उपाय

-सुख-समृद्धि पाने के लिए जन्माष्टमी पर पीले चंदन या केसर में गुलाब जल मिलाकर माथे पर टीका अथवा बिंदी लगाएं। ऐसा रोज करें। इस उपाय से मन को शांति प्राप्त होगी और जीवन में सुख-समृद्धि आने के योग बनेंगे।

-लक्ष्मी कृपा पाने के लिए जन्माष्टमी पर कहीं केले के दो पौधे लगा दें। बाद में उनकी नियमित देखभाल करते रहें। जब पौधे फल देने लगे तो इनका दान करें, स्वयं न खाएं।

-जन्माष्टमी से शुरू कर 27 दिन तक लगातार नारियल व बादाम किसी कृष्ण मंदिर में चढ़ाने से सभी इच्छाएं पूरी हो सकती हैं।

आगे की स्लाइड में जानिए धन प्राप्ति के लिए और कौन से करें उपाय -यदि पैसों की समस्या चल रही हो तो जन्माष्टमी पर सुबह स्नान आदि करने के बाद राधा-कृष्ण मंदिर जाकर दर्शन करें व पीले फूलों की माला अर्पण करें। इससे आपकी परेशानी कम हो सकती है।

-जन्माष्टमी पर किसी कृष्ण मंदिर जाकर तुलसी की माला से नीचे लिखे मंत्र की 11 माला जाप करें। इसके बाद भगवान श्रीकृष्ण को पीले कपड़े व तुलसी के पत्ते अर्पित करें। इस उपाय से आपकी हर समस्या का समाधान हो सकता है।

मंत्र- क्लीं कृष्णाय वासुदेवाय हरि:परमात्मने प्रणत:क्लेशनाशाय गोविंदाय नमो नम: