Politics

दलितों की राजनीति में एक नई पहचान बना रहे भीम आर्मी चीफ चन्द्रशेखर ने आज बिहार में होने वाले चुनाव के पहले 243 सीटों पर चुनाव लडने की घोषणा कर हलचल पैदा कर दी है।

मंगलवार को जैसलमेर में कांग्रेस विधायक दल की बैठक हुई, जिसमें सीएम अशोक गहलोत समर्थक विधायकों ने सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायकों पर आलाकमान की दरियादिली पर नाराजगी प्रकट की।

दिल्ली से जयपुर पहुंचे कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने आज अपने उपर लगे आरोपों पर खुलकर बात की। मीडिया से बात करते हुए कहा कि राजस्थान में 1 महीने के घटनाक्रम में जिस तरह की बातें उनके खिलाफ उन्हें सुनने को मिली हैं, उससे वे बेहद ही आहत हैं।

सचिन पायलट कैंप में शामिल रहे राजस्थान के तीन निर्दलीय विधायकों ने उन्हें तगड़ा झटका दिया है। सोमवार को पायलट के साथ राहुल और प्रियंका गांधी से मिलने के बाद जयपुर आते ही इन्होंने अपना पाला बदल लिया है।

पिछले तीन चुनावों में जातिवाद के बंधन से मुक्त हो चुका उत्तर प्रदेश जातीय मकडजाल में फंसने की राह पर खडा है। ब्राम्हणों के नाम पर शुरू हुई जातिवाद की राजनीति कहीं विकास के रास्ते पर चल रहे प्रदेश को विधानसभा चुनाव तक भटका न दे।

सीएम गहलोत से विवाद और पार्टी शीर्ष ने बातचीत के बीच सचिन पायलट ने मीडिया के सामने पहली बार बयान दिया। उन्होंने कहा कि लड़ाई पद के लिए नहीं, आत्मसम्मान के लिए थी।

राजस्थान कांग्रेस के युवा नेता सचिन पायलट की बगावत के बावजूद मध्य प्रदेश वाली कहानी नहीं दोहराई जा सकी। भाजपा की भी पायलट से वह उम्मीद नहीं पूरी हो सकी जो मध्यप्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पूरी की थी।

राजस्थान में गहलोत सरकार पर मंडरा रहा सियासी संकट अब टल चुका है। सीएम अशोक गहलोत से बढ़ते खींचतान के बाद कांग्रेस पार्टी से अलग हुए सचिन पायलट की घर वापसी हो गई है।

आखिरकार करीब एक महीने बाद राजस्थान में जारी सियासी संकट खत्म होता दिखाई दे रहा है। सचिन पायलट की राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से मुलाकात के बाद राजस्थान की सरकार पर से संकट के बादल छटते दिखाई दे रहे हैं।

बताया जा रहा है कि ये सब सचिन पायलट की सोमवार को प्रियंका और राहुल गांधी से मुलाकात के बाद मुमकिन हो पाया है। सचिन पायलट ने कुछ शर्ते कांग्रेस आलाकमान के सामने रखी हैं। जिस पर उन्हें आश्वासन दिया गया है।