Top

यूपी : बीजेपी विधायक पर CMO को बंधक बनाने का लगा आरोप

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 16 Dec 2017 2:21 PM GMT

यूपी : बीजेपी विधायक पर CMO को बंधक बनाने का लगा आरोप
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हरदोई : बिलग्राम मल्लावां से बीजेपी विधायक आशीष सिंह आशु एक बार फिर अपनी दबंगई को लेकर चर्चा में हैं। एक एएनएम के तबादले के लिए विधायक आशीष सिंह आशु ने सीएमओ से रिक्त पद पर पोस्टिंग के लिए कहा था। जिस पर कार्यवाही न हुई तो विधायक ने सीएमओ को जमकर गालियां सुनाई। सीएमओ का आरोप है कि विधायक ने उनको बंधक बनाकर उनके साथ अभद्रता की और गालियां दीं। सीएमओ ने बताया कि विधायक जिसके नाम की सिफारिश कर रहे थे उनका मंत्री बृजेश पाठक के कहने पर पहले ही तबादला किया जा चुका है।

ये है पूरा मामला

भाजपा विधायक हरपालपुर में तैनात एक एएनएम का तबादला अपने क्षेत्र यानी मल्लावा में चाहते थे। जिस को लेकर विधायक आशीष ने सीएमओ पीएन चतुर्वेदी से सिफारिश की थी। लेकिन जब उस पर कोई कार्यवाही नहीं हुई तो अपने लेटर पैड पर लिख कर सीएमओ से तबादले के लिए कहा था। हालांकि आशीष सिंह की सिफारिश से पहले ही कानून मंत्री बृजेश पाठक की सिफारिश उनके पास आ चुकी थी। लिहाजा उक्त महिला का तबादला भीठाई में किया जा चुका था।

यह बात विधायक को नागवार गुजरी और वह जा पहुंचे मुख्य चिकित्सा अधिकारी के दफ्तर में। उसके बाद ड्रामा शुरु हुआ जो आधे घंटे चला। इस इस बवाल के बीच सीएमओ दफ्तर का चैनल बंद रहा उसमे ताला लटकता दिखा। हालांकि जब विधायक बाहर निकले तो वह चैनल खुल गया।

इस बाबत जब सीएमओ से पूछा गया तो सीएमओ का कहना था कि अधिकारी तो सत्ता पर काबिज़ लोगो से गाली खाने व मार खाने के लिए ही बने हैं। विधायक ने उन्हें बंधक बनाकर उनके साथ अभद्रता की है। जबकि विधायक का कहना था कि किस ने किस को बंधक बनाया यह सबको पता है। सीएमओ ने उनको बंधक बनाया था। बृजेश पाठक द्वारा कराए गए तबादले को लेकर वह बोले कि बिलग्राम मल्लावां से वह प्रतिनिधि हैं लिहाजा जवाबदेही उनकी बनती है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story