Top

अमित शाह की रैली में लगे नारे- योगी तेरी तानाशाही नही चलेगी, नहीं चलेगी

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 10 Oct 2017 2:26 PM GMT

अमित शाह की रैली में लगे नारे- योगी तेरी तानाशाही नही चलेगी, नहीं चलेगी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अमेठी : कांग्रेस के गढ़ अमेठी में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस पर जमकर हमला बोला और केंद्र सरकार की योजनायें गिनाई। माहौल ज़बरदस्त बना हुआ था, लेकिन अपनी मांगों को लेकर रैलीस्थल पहुंची आंगनबाड़ी कर्मियों ने बीजेपी नेताओं के माथे पर पसीना ला दिया। शाह के सामने फजीहत होते देख मंत्री सुरेश पासी और डीएम योगेश कुमार ने उन्हें डांट लगा दी।

कौहार में इस तरह शाह की रैली में फैला भंग

मंच पर राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह गांधी परिवार पर हमलावर थे। विकास के दावे और वादे कर रहे थे लेकिन इसी दौरान मंच से करीब 40 मीटर दूर बाईं तरफ खड़ी सैकड़ों आंगनबाड़ी कर्मियों ने अपनी मांगों को पूरा कराने के लिए हाथों में हैंडबिल ले प्रदर्शन शुरू कर दिया। इसके बाद बीजेपी कार्यकर्ताओं और पुलिस ने उनसे हंगामा करने से मना किया, इसपर दोनों पक्षों में कहासुनी होने लगी। फिर क्या था एक ओर अमित शाह का भाषण चल रहा था और दूसरी ओर विरोध में नारे लगने लगे।

प्रदर्शन देख 2 मिनट में शाह ने समाप्त किया भाषण

विरोध बढ़ता देख शाह ने 2 मिनट में ही अपने भाषण को समाप्त किया और रवाना हो गए। हैरान करने वाली बात ये रही कि शाह, सीएम योगी और उनके मंत्री इन प्रदर्शन करने वालों से बिना मिले ही निकल लिए।

15 मिनट तक नारेबाजी करती रहीं आंगनबाडी कर्मी

बड़े नेता जैसे ही हेलिपैड और गाडियों के पास पहुंचे राज्यमंत्री सुरेश पासी और डीएम योगेश कुमार प्रदर्शन कर रहे कर्मियों के पास पहुंचे। अपनी अनदेखी के बाद और फटकार सुनने के बाद आंगनबाड़ी कर्मी मंत्री और डीएम को सामने पाकर बिफर गई। उन्होंने सरकार के विरुद्ध नारे लगाने शुरु कर दिए। 'हमारी मांगे पूरी हो, चाहे जो मजबूरी हो'। योगी तेरी तानाशाही नही चलेगी-नहीं चलेगी। ये नारे लगभग 15 मिनट तक लगे। प्रदर्शनकारियों का आरोप था कि सरकार में आने से पूर्व सीएम योगी ने उनकी मांग पूरी करने की बात कही थी। लेकिन अब वादे से मुकर रहे हैं।

समिति के निर्णय के बाद होगा फैसला

फिलहाल इस मामले पर अमेठी के डीएम योगेश कुमार का कहना था कि सरकार ने इसके लिए एक राज्य स्तरीय समिति बना दी है। उसके निर्णय आने के बाद ही फैसला हो पाएगा। उन्होंने कहा कि समस्त पत्रों को सरकार को भेजा जा चुका है फिर भी ये मानने को तैयार नहीं हैं।

कांग्रेस ने लगाई आरोपों की झड़ी

-युवक कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता राजेश तिवारी ने स्मृति ईरानी और अमित शाह के दौरे को मजाक बताया।

-तिवारी ने आरोप लगाया कि भाजपा सरकार ने मेगा फूड पार्क सहित बहुत सी महत्वपूर्ण योजनाओं को यहां से हटवा दिया।

-प्रधानमंत्री की तरह यह भी कांग्रेस द्वारा कराये गये कार्यों का फीता काटकर झूठी वाह वाही ले रहे हैं।

-उन्होंने ने कहा कि अमेठी की जनता समझदार है उसे असली नकली की सब पहचान है।

-स्मृति ईरानी को बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय जाना चाहिये जहां छात्राओं के ऊपर लाठी चार्ज हुआ।

-अमित शाह पहले अपने पुत्र के ऊपर लगे आरोंपो का जबाब दे।

-अमित शाह एण्ड कम्पनी का नाटक पूरा देश जान चुका है।

-आने वाले चुनावों में जनता इन्हें सबक सिखायेगी।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story