Top

कांग्रेस के प्रियंका कार्ड के बाद बीजेपी खेमे में खलबली, डैमेज कंट्रोल में जुटे ‘चाणक्य’ 

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने और चुनाव की तैयारियों की समीक्षा करने के लिए फरवरी के दूसरे हफ्ते में वाराणसी पहुंचने वाले हैं। इस दौरान अमित शाह कार्यकर्ताओं के साथ मुखातिब होंगे।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 25 Jan 2019 9:05 AM GMT

कांग्रेस के प्रियंका कार्ड के बाद बीजेपी खेमे में खलबली, डैमेज कंट्रोल में जुटे ‘चाणक्य’ 
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

वाराणसी: प्रियंका गांधी के एक्टिव पॉलिटिक्स में एंट्री के बाद पूर्वी उत्तर प्रदेश में सियासी समीकरण बदलने लगे हैं। खासतौर से बीजेपी की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। लिहाजा पार्टी ने अभी से अपनी तैयारियां शुरू कर दी है। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने और चुनाव की तैयारियों की समीक्षा करने के लिए फरवरी के दूसरे हफ्ते में वाराणसी पहुंचने वाले हैं। इस दौरान अमित शाह कार्यकर्ताओं के साथ मुखातिब होंगे।

ये भी पढ़ें...चुनाव से पहले कांग्रेस का मास्टर स्ट्रोक, प्रियंका बनीं महासचिव, पूर्वांचल का दिया प्रभार

कार्यकर्ता सम्मेलन का होगा आयोजन

माना जा रहा है कि अमित शाह 8 फरवरी को वाराणसी पहुंचेंगे। अभी तक तय कार्यक्रम के मुताबिक अमित शाह एक कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे। इस सम्मेलन में वाराणसी और आसपास के लगभग 10 जिलों के कार्यकर्ताओं शामिल होंगे। माना जा रहा है कि लगभग 10 हजार की संख्या में पार्टी कार्यकर्ता, पदाधिकारी और नेता शिरकत करेंगे। पदाधिकारियों ने अभी तक शहर के बीचों बीच स्थित बेनियाबाग मैदान, कटिंग मेमोरियल मैदान और जगतगंज डिग्री कालेज का निरीक्षण किया है।

ये भी पढ़ें...प्रियंका को यूपी की कमान: कांग्रेसियों ने मनाया जश्न, पटाखे फोड़ मिठाई खिलाकर मनाया

चुनावी बिसात बिछाने की तैयारी

माना जा रहा है कि लोकसभा चुनाव के पहले अमित शाह का ये दौरा बेहद अहम है। बदलते सियासी हालात में यूपी में बीजेपी की राह मुश्किल होती जा रहा है। पहले सपा-बसपा का गठबंधन और अब प्रियंका गांधी को पूर्वी उत्तर प्रदेश की कमान। माना जा रहा है कि कांग्रेस ने पूर्वांचल में खासतौर से मोदी को रोकने के लिए प्रियंका कार्ड खेला है। सियासी बाजार में तो ये भी सुगबुगाहट है कि प्रियंका या फिर राहुल में से कोई एक बनारस से मोदी को टक्कर दे सकता है।

वाराणसी के कांग्रेसी कार्यकर्ता भी लगातार ये मांग उठाते आ रहे हैं। लिहाजा बीजेपी के लिए ये जरुरी हो गया है कि वह अपनी तैयारियां को अमली जामा पहनाना शुरू कर दे। अमित शाह के अलावा पूर्वी यूपी के भाजपा पार्टी के प्रभारी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जगत प्रसाद नड्डा 29 फरवरी को चंदौली आ रहे हैं, यहां पर वो कार्यकर्ताओं के साथ अगली रणनीति पर चर्चा करेंगे।

ये भी पढ़ें...प्रियंका गांधी: कांग्रेस का ब्रह्मास्त्र, सभी के सामने नई रणनीति बनाने की मजबूरी

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story