×

शाह के मास्टर स्ट्रोक के बाद अखिलेश ने दिए माया को चुनाव में समर्थन के संकेत

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 29 July 2017 12:45 PM GMT

शाह के मास्टर स्ट्रोक के बाद अखिलेश ने दिए माया को चुनाव में समर्थन के संकेत
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शनिवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) एमएलसी और एमएलए को लालच देकर तोड़ रही है। भाजपा जनता के बीच जाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रही है। बिहार में इन लोगों ने राजनीतिक भ्रष्टाचार किया और अब गुजरात में कांग्रेस को तोड़ने में लगे हैं। अखिलेश ने कहा, "एमएलसी तोड़ना राजनीतिक भ्रष्टाचार है। बुक्कल नवाब अगर कैद नहीं हुए होंगे, तो मैं उनसे पूछूंगा कि क्या कारण है।"

उन्होंने कहा, "अगर मायावती चुनाव लड़ती हैं, तो मैं केवल इतना कहूंगा कि समाजवादियों के सबसे अच्छे संबंध हैं। परिस्थिति के अनुसार राजनीति में किसकी कब मदद करनी पड़े, उसके लिए तैयार रहना चाहिए।"

ये भी देखें:वित्‍त राज्‍यमंत्री गंगवार ने सदन को बताई GST की विशेषताएं, आप भी जानिए

शनिवार सुबह समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी को एक बड़ा झटका लगा है। सपा के एमएलसी और राष्ट्रीय शिया समाज के संस्थापक सदस्य बुक्कल नवाब और यशवंत सिंह ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया।

इसके अलावा बसपा के एमएलसी जयवीर सिंह ने भी इस्तीफा दे दिया है। बसपा से इस्तीफा देने के बाद जयवीर सिंह भाजपा में शामिल हो गए हैं।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह शनिवार को ही लखनऊ पहुंचे। शाह के लखनऊ आते ही सपा को बड़ा झटका लगा। इसे शाह का मास्टर स्ट्रोक माना जा रहा है। इस घटनाक्रम को कुछ मंत्रियों को एमएलसी बनाने का रास्ता माना जा रहा है। रिक्त सीट पर भाजपा नेता उपचुनाव लड़ सकते हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story