Top

आजम के बिगड़े बोल : कल्बे जव्वाद नकवी मिल्लत को नुकसान पहुंचाने के लिए काफी

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 8 April 2017 11:02 AM GMT

आजम के बिगड़े बोल : कल्बे जव्वाद नकवी मिल्लत को नुकसान पहुंचाने के लिए काफी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

रामपुर : समाजवादी पार्टी में एकता और मुलायम सिंह यादव को अध्यक्ष बनाने की मांग को लेकर लखनऊ में कई बड़े नेताओं ने एक मीटिंग बुलाई थी जिसमें आजम खान पहुचें नहीं जबकि वो मुलायम के काफी करीबी माने जाते हैं ऐसे में आजम ने अपनी सफाई में कहा कि सूचना और निमंत्रण न होने के कारण ऐसा हुआ। उन्होंने कहा एकता की बात तो काफी दिन से की जा रही हैं। चुनाव से पहले और चुनाव में भी एकता की कोशिशें जारी रहीं।

ये भी देखें :महावीर जयंती पर विशेष: धरती का सबसे बड़ा खतरा है इंसान, पर जो अहिंसक है, वही मानव है

आजम खां ने कहा कि एकता कराने के लिए उन्हेांने सारी सीमायें लांघ दी लेकिन मैं उसमें बुरी तरह से नाकाम रहा। कई बार लगा कि मसला हल हो गया लेकिन ऐसा हो नहीं सका। और अब इन बातों में कोई दम नजर नहीं आता।

शिया पर्सनल लॉ बोर्ड की मीटिंग में मुस्लिम समाज से सरकारी फंडिंग को अलग रखने के सवाल पर पूर्व मंत्री ने कहा कि अगर बोर्ड अपने आप को मुस्लिम समाज से अलग मानता है तो यह इंटरनेशनल न्यूज़ है, और यह निंदा के योग्य है। दुनिया में जितने भी वर्ग हैं वो सब कलमे की बुनियाद पर मुसमान हैं और उन्हें वो सब चीजें जो मुसलमान को मिलती हैं मिलनी चाहिए।

उन्होंने कहा एकता को तोड़ने की नहीं बल्कि जोड़ने की जरूरत है। यह भाजपा और आरएसएस का खतरनाक हथकंडा है इससे होशियार रहना चाहिए। कहा आज जरूरत नहीं है नये मीर जाफर नकवी और मीर सादिक नकवी जैसे लोगों को पैदा करने की बल्कि कल्बे जव्वाद नकवी, मुख्तार अब्बास नकवी, एजाज अब्बास नकवी ही मिल्लत को नुकसान पहुंचाने के लिए काफी हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story