Top

राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र अमेठी में भारत बंद रहा 'फ्लॉप'

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 10 Sep 2018 1:08 PM GMT

राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र अमेठी में भारत बंद रहा फ्लॉप
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अमेठी: पेट्रोल डीजल की आसमान छू रही कीमतों पर कांग्रेस पार्टी हमलावर नजर आई। बंद के लिए कांग्रेस को भले ही कई राजनीतिक दलों का समर्थन हासिल रहा लेकिन राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र अमेठी में कांग्रेस के भारत बन्द का आंशिक असर ही दिखाई पड़ा।

जहां तक बात करें अमेठी में भारत बंद की तो जितनी उम्मीद के साथ कांग्रेसियों ने यहां बंद की आस लगाई थी उसके हिसाब से बहुत खासा तो नहीं, लेकिन मिलाजुला और आंशिक असर ही देखने को मिला। पार्टी के कुछ समर्थकों के साथ कांग्रेसी नेताओं ने कई स्थानों पर पुतले जलाये।

कांग्रेस के नेताओ ने बंद के माध्यम से सरकार को जगाने और जनता के गुस्से को सामने लाने का काम किया। एक दिन पूर्व ही कॉग्रेसी नेताओं ने भारत बंद को सफल बनाने के लिए स्‍थानीय व्‍यापरियों से अपील भी की थी। कांग्रेसी कार्यकर्ताओ ने कस्बे के व्‍यापारिक प्रतिष्‍ठानों के व्‍यापारियों के पास जाकर उनसे अपनी दुकानें बंद रखकर समर्थन देने का अनुरोध किया।

समर्थकों के साथ कांग्रेसी नेताओं ने कई स्थानों पर पुतले जलाये

आपको बता दें कि कांग्रेस पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों पर केन्द्र सरकार पर लगातार हमला कर रही है। कांग्रेस ने भारत बंद के पीछे की वजह इंधन की कीमतों और एक्साइज ड्यूटी में बढ़ोत्तरी को ठहराया। कांग्रेस की ओर से राज्यों में एक्साइज ड्यूटी और अत्यधिक वैट को तत्काल कम करने की मांग उठी। साथ ही पेट्रोल और डीजल को जीएसटी में लाने की डिमांड भी। कांग्रेस के नेताओं ने कहा कि केंद्र ने पिछले चार साल में ईंधन पर उत्पाद शुल्क लगाकर कई लाख करोड़ रुपये की कमाई की है और सरकारी खजाना भरने के लिए यह राशि आम आदमी से ली है।

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story