Top

बिहार में सहयोगी दे रहे बीजेपी को झटका

shalini

shaliniBy shalini

Published on 9 Jun 2018 7:13 AM GMT

बिहार में सहयोगी दे रहे बीजेपी को झटका
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना: राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन :राजग:की बिहार इकाई में अगले लोकसभा चुनाव में सीटों के बंटवारे को लेकर चल रही खींचतान के बीच नीतिश कुमार के नेतृत्व वाले जनतादल यू ने राज्य की सभी 40 सीटों पर चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है और इसकी तैयारी भी शुरू कर दी है ।दूसरी ओर बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने राजग में शामिल और केंद्र में मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा को राजद,कांग्रेस और राकांपा में के गठबंधन में शामिल होने का न्योता दिया है ।उपेन्द्र कुशवाहा रालोसपा के अध्यक्ष हैं।

बिहार सरकार में मंत्री और जदयू के वरिष्ठ नेता श्याम रजक ने कहा कि पार्टी सभी 40 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारेगी ।

गन्ना किसानी यानी मीठी चीनी की कड़वी कहानी

बिजली गिरने से यूपी ,बिहार में 20 से ज्यादा मरे

श्याम रजक ने कहा कि पार्टी फिलहाल सभी मतदान केंद्रों पर कम से कम 10 कार्यकर्ता बनाने के लक्ष्य पर काम कर रही है। सक्रिय सदस्यों के साथ-साथ सभी प्रकोष्ठों के अध्यक्षों को भी इस बारे में टास्क सौंपा गया है।-

गन्ना किसानी यानी मीठी चीनी की कड़वी कहानी

उधर, 7 जून को एनडीए की बैठक में शामिल नहीं हुए रालोसपा चीफ उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि वह एनडीए से अलग नहीं हो रहे हैं। शुक्रवार को राजद नेता तेजस्वी यादव ने उन्हें (उपेंद्र कुशवाहा) महागठबंधन (राजद, कांग्रेस और राकांपा) के साथ आने का न्योता दिया था।

जदयू के पूरे अभियान की मॉनिटरिंग राज्यसभा में जदयू के नेता व महासचिव (संगठन) रामचंद्र प्रसाद सिंह कर रहे हैं। फिलहाल पार्टी बिहार की 25 लोकसभा सीटों पर अपना दावा कर रही है। प्रधान महासचिव केसी त्यागी और महासचिव श्याम रजक से लेकर प्रवक्ता डॉ. अजय आलोक ने भी अलग-अलग बयान देकर सीटों पर अपना दावा पेश किया है।

विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि उपेंद्र कुशवाहा सीएम नीतीश कुमार से बड़े नेता हैं। कुशवाहा महागठबंधन में आना चाहें तो उस पर गंभीरता से विचार किया जाएगा। वे हम लोगों से बात करें। उसके बाद ही कुछ हो सकता है। वैसे भी कुशवाहा के लिए एनडीए में अब कोई जगह नहीं दिख रही। उनकी राजनीति भी बीजेपी की विचारधारा के खिलाफ है। चाचा नीतीश को छोड़ कोई भी महागठबंधन में आ सकता है।

तेजस्वी ने कहा कि नीतीश कुमार एनडीए में रहेंगे तो अगले चुनाव में हमें फायदा होगा। महागठबंधन में कोई बड़ा भाई, छोटा भाई नहीं है। सब भाई-भाई हैं। दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मिल कर लौटे तेजस्वी ने पत्रकारों से कहा कि बीजेपी को तो जदयू को लोकसभा चुनाव में एक सीट भी नहीं देनी चाहिए।

रालोसपा के अध्यक्ष व केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि एनडीए एकजुट है। कोई नाराजगी नहीं है। रालोसपा एनडीए के साथ है। हम गठबंधन से अलग नहीं होंगे। एनडीए के भोज में व्यक्तिगत कारणों से शामिल नहीं हो सका। उन्होंने सवाल किया कि बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह भोज में नहीं आए, तो क्या वे नाराज हैं? शुक्रवार को दिल्ली से पटना पहुंचने पर एयरपोर्ट पर मीडिया के सवालों का जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा कि भोज में उनकी पार्टी के नेता शामिल थे। इसका कोई दूसरा मतलब नहीं निकाला जाना चाहिए।

बिहार में लोकसभा की 40 सीटें हैं जिसमें सहयोगी दल जदयू ने 25 ,रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी ने 7 और रालोसपा ने 4 सीट की मांग की है । इस लिहाज से बीजेपी सिर्फ 4 सीटों पर चुनाव लड पाएगी।

लोकसभा के 2014 के चुनाव में बीजेपी ने 23,लोजपा ने 6 रालोसपा ने 3 और जदयू ने 2 सीटें जीती थीं ।

shalini

shalini

Next Story