×

खलबली है खलबली: नई सरकार के गठन की तैयारी, यूपी की नौकरशाही में बढ़ रही बेचैनी

प्रचंड ऐतिहासिक बहुमत से विजय के बाद बीजेपी अब यूपी में नई सरकार के गठन की तैयारी में लगी है। शीर्ष नौकरशाही से लेकर पूरे प्रशासनिक महकमें में इस समय बीजेपी और संघ के नजदीकी सूत्रों को तलाशने की बेचैनी दिख रही है।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 17 March 2017 9:00 AM GMT

खलबली है खलबली: नई सरकार के गठन की तैयारी, यूपी की नौकरशाही में बढ़ रही बेचैनी
X
आदेश के बावजूद 1,800 IAS अफसरों ने नहीं दिया संपत्ति का ब्योरा, UP अव्वल
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

संजय तिवारी

लखनऊ: प्रचंड ऐतिहासिक बहुमत से विजय के बाद बीजेपी अब यूपी में नई सरकार के गठन की तैयारी में लगी है। शीर्ष नौकरशाही से लेकर पूरे प्रशासनिक महकमें में इस समय बीजेपी और संघ के नजदीकी सूत्रों को तलाशने की बेचैनी दिख रही है।

इस आहट ने तमाम अफसरों के होश उड़ा दिए हैं। ब्लाॅक, तहसील और थाना स्तर से लेकर शासन के शीर्ष स्तर तक बेचैनी बढ़ रही है। कुछ अफसर नए संरक्षकों की तलाश में सक्रिय हैं।

कुछ अपनी तैनाती के आकलन भर से सहम रहे हैं। इससे इतर अब तक हाशिए पर रहे अफसरों को उम्मीद की किरण दिख रही है।

बसपा शासन में एक खास वर्ग को प्राथमिकता मिली और फिर सपा शासन में भी यही स्थिति बनी रही। बीजेपी ने लगातार यही आरोप लगाया कि अपने-अपने वोट बैंक के हिसाब से अच्छे और कर्मठ अफसरों को किनारे करके दोनों सरकारों ने जातीय आधार पर तैनाती की।

आम आदमी की जरूरतों, दिक्कतों के हल के लिए थाना और तहसील सबसे अहम केंद्र होते हैं, लेकिन वहां जाने वालों को न्याय नहीं मिला।

डेढ़ दशक से यहां होने वाली तैनातियों ने पूरे समाज को प्रभावित किया। पुलिस और शासन में भी बहुत से महत्वपूर्ण पदों पर तैनाती में पारदर्शिता नहीं रही।

ऐसा भी नहीं कि योग्य और ईमानदार अफसर मुख्यधारा में नहीं रहे, लेकिन उनकी संख्या कम थी और उन्हें अपने मन-माफिक काम करने नहीं दिया गया।

जिस तरह तबादले-दर-तबादले होते रहे, उससे भी नीयत पर लगातार सवाल उठे।

जाहिर है कि अब बीजेपी सरकार बनने के बाद सीएम कार्यालय से लेकर सचिवालय और फील्ड में पुलिस और प्रशासनिक अफसरों की नए सिरे से तैनाती होगी।

ऐसे में यूपी कैडर के दिल्ली में तैनात कई वरिष्ठ अफसरों की वापसी की अटकलें लगने लगी है।

प्रशासनिक हल्कों में दखल रखने वाले और बीजेपी के लिए काम करने वाले कुछ लोग अफसरों की पोस्टिंग को लेकर अभी से सक्रिय भी हो गए हैं।

हालांकि, यूपी बीजेपी प्रेसिडेंट अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य का कहना है कि सरकार की नीयत के हिसाब से अफसर काम करते हैं।

ज्यादातर अफसर अच्छे होते हैं, लेकिन उन्हें प्रभावशाली बुरे लोग अच्छा काम नहीं करने देते। बीजेपी शुचिता और ईमानदारी को प्राथमिकता देगी। बीजेपी संकल्प पत्र में किए गए हर वादे को पूरा करेगी।

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story