Top

योगी जी ! शोक सभा में बीजेपी वालों के हंसते हुए चेहरे, लंका लगा देंगे

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 29 Jan 2018 3:59 PM GMT

योगी जी ! शोक सभा में बीजेपी वालों के हंसते हुए चेहरे, लंका लगा देंगे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : सत्ता के मद में नेता जी लोग मदमस्त हाथी हो जाते हैं। सरकार के सेहरे और चेहरे बदलते हैं। लेकिन नहीं बदलता तो उसका चरित्र। वो चरित्र जिसके बारे में फिलहाल कोई बात नहीं कहनी। लेकिन जो बात आज चुभी वो ये कि सूबे की कमान जिन योगी आदित्यनाथ जी के हाथों में है। वो काफी संवेदनशील माने जाते हैं। कई मौकों पर उन्होंने ये साबित भी किया है। लेकिन उनके नेता बेलगाम हो चुके हैं उन्हें मौके की नजाकत भी समझ में नहीं आती।

मेरठ में आज जो कुछ भी हुआ वो न सिर्फ योगी बल्कि बीजेपी के चेहरे पर बदनुमा दाग बन चुका है।

यूपी के कासगंज में गणतंत्र दिवस पर भड़की सांप्रदायिक हिंसा का शिकार हुए चंदन कुमार गुप्ता की आत्मा की शांति के लिए मेरठ में शोक सभा आयोजित की गई। जिसकी तस्वीर पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने सोशल प्लेटफार्म पर शेयर भी की। जिसमें बीजेपी नेता खुशी के साथ मृतक चंदन के फोटो पर फूल अर्पित कर रहे हैं। इनसे दो मिनट का मौन भी नहीं रखा जा सका। पता नहीं किस बात की खुशी थी इन्हें जो दांत बेकाबू हुए जा रहे हैं।



योगी जी आपसे विनती है कि पार्टी के नेताओं को आचरण से जुड़े प्रवचन हफ्ते में 6 दिन अवश्य दें। वर्ना अगली बीजेपी सरकार के लिए भी कई दशक तक इंतजार करना होगा। बाकी आप समझदार हैं। वैसे यदि आप इस जैसे नेताओं के बल पर 2019 का सपना सजा के बैठे हैं। तो आग लगा दीजिये अपने सपने को।

नोट : जो कुछ भी लिखा है मेरे स्वयं के विचार हैं दिल में बात चुभी तो उगल दी। समझना है तो समझो वर्ना इंतजार करो लुटिया डूबने की।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story