Top

सीएम योगी आदित्यनाथ उपराष्ट्रपति चुनाव के बाद दे सकते हैं इस्तीफा

सीएम योगी आदित्यनाथ शुक्रवार (04 अगस्त) को लखनऊ से दिल्ली के लिए रवाना होंगे और अगले दिन यानि 05 अगस्त को देश के उपराष्ट्रपति पद के लिए होने वाले मतदान में शामिल होंगे। माना जा रहा है कि उसके बाद वह बतौर सांसद अपने पद से इस्तीफा दे सकते हैं।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 4 Aug 2017 7:01 AM GMT

सीएम योगी आदित्यनाथ उपराष्ट्रपति चुनाव के बाद दे सकते हैं इस्तीफा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: सीएम योगी आदित्यनाथ शुक्रवार (04 अगस्त) को लखनऊ से दिल्ली के लिए रवाना होंगे और अगले दिन यानि 05 अगस्त को देश के उपराष्ट्रपति पद के लिए होने वाले मतदान में शामिल होंगे। माना जा रहा है कि उसके बाद वह बतौर सांसद अपने पद से इस्तीफा दे सकते हैं। इसके बाद योगी आदित्यनाथ म्यामांर की राजधानी यंगून के लिए रवाना हो जाएंगे।

सीएम अपने दिल्ली दौरे के पहले दिन यूपी भवन में एनडीए की बैठक में शामिल होंगे। बैठक के बाद भोज का भी आयोजन किया गया है। पांच अगस्त को सीएम उप राष्ट्रपति चुनाव के लिए अपना मतदान करेंगे। इसके बाद बतौर सांसद योगी आदित्यनाथ और केशव मौर्या अपने पद से इस्तीफा दे सकते हैं। इसके बाद सीएम विदेश दौरे पर जाएंगे। यंगून में पर्यावरण पर इंटरनेशलन कांफ्रेंस है। इसमें पर्यावरण पर चर्चा होगी। इस कांफ्रेंस में 28 देशों के प्रतिनिधियों के शामिल होने की संभावना है।

यह भी पढ़ें ... EC का ऐलान: 5 अगस्त को होगा देश के अगले उपराष्ट्रपति का चुनाव

डिप्टी सीएम केशव मौर्या भी शुक्रवार की शाम को दिल्ली के लिए प्रस्थान करेंगे और 05 अगस्त को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव के मतदान में शामिल होंगे। जबकि सीएम योगी आदित्यनाथ दोपहर दो बजे ही दिल्ली के लिए प्रस्थान करेंगे।

यह भी पढ़ें ... Big Move: इन मुस्लिमों को लेकर मोदी सरकार सख्त, जल्द भेजे जा सकते हैं वापस म्यांमार

रंगून को ही कहा जाता है यंगून

आपने हिंदी फिल्म का एक गीत 'मेरे पिया गए रंगून' जरूर सुना होगा। यह बहुत ही खूबसूरत देश है पहले के समय में लोग घूमने के लिए रंगून जाना पसंद करते थे। अब इसका नाम बदलकर यंगून हो चुका है। इसकी वजह यह है कि बर्मी लैंग्वेज में 'र' का उच्चारण 'य' होता है। इसीलिए अब रंगून को यंगून कहा जाता है। ब्रिटिश शासन काल में म्यामांर को बर्मा के नाम से जाना जाता था। मिलिट्री नियमों के लागू होने के बाद इसका नाम म्यांमार हो गया।

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story