Top

तीन तलाक पर सीएम योगी को याद आया द्रौपदी का चीरहरण, बोले- क्यों मौन हैं कुछ लोग ?

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 17 April 2017 6:17 AM GMT

तीन तलाक पर सीएम योगी को याद आया द्रौपदी का चीरहरण, बोले- क्यों मौन हैं कुछ लोग ?
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: सीएम योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को 'राष्ट्रपुरुष चंद्रशेखर-संसद में दो टूक' पुस्तक का विमोचन किया। इस मौके पर उन्होंने एक बार फिर तीन तलाक का मुद्दा उठाते हुए कहा कि जो इस पर मौन हैं, वो अपराधियों के जैसे हैं। सीएम योगी ने द्रौपदी के चीरहरण का भी उदाहरण दिया। उन्होंने कॉमन सिविल कोड की वकालत करते हुए कहा कि जब देश एक है तो फिर शादी-ब्याह के कानून एक क्यों न हों।

यह भी पढ़ें...मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कहा- सरकार दखल न दे, डेढ़ साल में खत्म कर देंगे तीन तलाक

और क्या बोले सीएम योगी ?

-तीन तलाके के मुद्दे पर एक वर्ग मौन बना हुआ है। कॉमन सिविल कोड पर उनकी धारणा अलग है।

-चंद्रशेखर जी में बात को समझने की अद्भुत क्षमता थी। देश की ज्वलंत समस्या को लेकर लोग मुंह बंद किए हैं।

-पंजाब की समस्या का भी पुस्तक में वर्णन। राष्ट्र की समस्याओं के प्रति चंद्रशेखर जी समर्पित थे।

-मान्यताओं के आधार पर भारत ने लड़ाई लड़ी थी। पुस्तक में तमाम समस्याओं का समाधन पाएंगे।

यह भी पढ़ें...VIDEO: AIMPLB की बैठक ख़त्म, तीन तलाक़ के लिए जारी हुआ CODE OF CONDUCT

-सत्य कड़वा होता है। हर व्यक्ति सत्य नहीं बोल पाता। चंद्रशेखर जी के भाषण में सत्य होता था।

-संसद में चंद्रशेखर जी का भाषण सुनते थे। विचारधारा कोई भी हो,लक्ष्य लोक कल्याण हो।

-सबसे बड़ी क्रांति वैचारिक क्रांति मानी गई। वैचारिक क्रांति के बगैर कोई क्रांति सफल नहीं हो पाई।

-मनुष्य का जन्म और मरण दोनों एक-दूसरे से जुड़ा है,जिसने जन्म लिया है उसको मरना है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story