Top

CM योगी बोले- तटबंध मिट्टी के होते हैं, RCC के नहीं, कितना ठहर पाएंगे

सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने दो दिवसीय दौरे पर गुरुवार को गोरखपुर और आस-पास के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर राहत सामग्री वितरण की।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 24 Aug 2017 3:38 PM GMT

CM योगी बोले- तटबंध मिट्टी के होते हैं, RCC के नहीं, कितना ठहर पाएंगे
X
CM योगी बोले- तटबंध मिट्टी के होते हैं, RCC के नहीं, कितना ठहर पाएंगे
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गोरखपुर: सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने दो दिवसीय दौरे पर गुरुवार को गोरखपुर और आस-पास के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर राहत सामग्री वितरण की। योगी ने गोरखपुर में बेला, जमुवाड, उत्तरासोध, घुंघुनकोठा सहित एक दर्जन गांव जो पूरी तरह जलमग्न हो चुके हैं वहां सेना की बोट से गए और बाढ़ प्रभावितों को राहत सामग्री बांटी।

बांधो का समय रहते मरम्मत कार्य पूरा ना किए जाने के संबंध में सीएम योगी ने कहा कि ये पाप पिछले 15 साल का है। जिसमें कभी भी तटबंधों के रख रखाव की व्यवस्था नहीं की गई थी। 15 सालों में पहली बार इन तटबंधों में रेन कट और रैट होल बंद किए गए। उनकी मरम्मत के कार्य किए गए। लेकिन जो कार्य होने चाहिए थे पिचिंग के कार्य, नदियों को रोकने के लिए अवरोधकों के कार्य समय पर पिछली सरकारों में हो गए होते तो ये नहीं होता। दूसरा ये आपदा है। पिछले 40 सालों में सर्वाधिक जलस्तर है। हमे इस बात को भी देखना होगा। तटबंध मिट्टी के होते है आरसीसी के नहीं होते हैं। बाढ़ के उस करंट के साथ वह कितना ठहर पाएंगे ये सोचना चाहिए।

यह भी पढ़ें .... नियमों में बदलाव कर योगी ने पुलिस भर्ती उजागर करने वाले IPS को दी नयी जिम्मेदारी

राहत शिविरों में कोताही बरते जाने और प्रशासन द्वारा पीड़ितों की मदद ना किए जाने के सवाल पर सीएम योगी ने कहा कि राहत कार्यों को बढ़ाया गया है। आर्मी भी कार्य कर रही है। हर गांव तक राहत कार्य पहुंचाया गया है। भोजन, नौका आदि की भी पर्याप्त व्यवस्था की गई है। आपदा है और मुझे लगता है कि सभी के सहयोग से इसका समाधान करना चाहिए।

वहीं इस आपदा में मुआवजे के सवाल पर उन्होंने कहा कि मृतक परिवार को 4 लाख रुपए तत्काल रूप से दिए जा रहे हैं। जिनके मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं उनको 95 हजार एक सौ रुपए, जिनकी झोपड़ी बह गई उनकी आर्थिक मदद और प्रधानमंत्री आवासीय योजना के तहत आवास उपलब्ध कराने के लिए सूची तैयार की जा रही है।

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story