Top

औरतों का बाजार में जाकर मेंहदी लगवाना नाजायज, दारुल उलूम देवबंद ने जारी किया फतवा

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 14 July 2018 2:12 PM GMT

औरतों का बाजार में जाकर मेंहदी लगवाना नाजायज, दारुल उलूम देवबंद ने जारी किया फतवा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सहारनपुर: विश्व प्रसिद्ध इस्लामिक शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद ने महिलाओं के हाथों पर रचने वाली सुहाग की मेंहदी बाजारों में जाकर लगवाने को नाजायज करार दिया है। फतवे में मुफ्तियाने इकराम ने कहा है कि मेंहदी लगवाने के लिए गैर मर्दों के हाथों में अपना हाथ देना सख्त गुनाह और बेहाई की बात है, जिससे मुस्लिम महिलाओं को बचना चाहिए।

लिखित सवाल के जवाब में आया फतवा

नगर के ही मोहल्ला बड़जियाउल हक निवासी मोहम्मद मोनिस ने दारुल उलूम से लिखित सवाल में पूछा था कि मुस्लिम औरतों का बाजार जाकर मेंहदी लगवाना कैसा है। बहुत सी औरतें मर्दों के हाथों से मेंहदी लगवाती हैं, क्या इस्लाम में इसकी इजाजत है। दारुल उलूम के फतवा विभाग की खंडपीठ ने लिखित सवाल के जवाब में फतवा जारी करते हुए कहा है कि औरतों का बाजार जाकर मर्दों से मेंहदी लगवाना सख्त गुनाह और नाजायज है। फतवे में यह भी कहा गया है कि औरतों का बिना जरूरत बाजारों में जाना गुनाह और बेहयाई की बात है। इसलिए मुसलमान औरतों को इससे बचना चाहिए। दारुल उलूम के फतवे को पूरी तरह सही ठहराते हुए मजलिस इत्तिहादे मिल्लत के प्रदेश अध्यक्ष मुफ्ती अहमद गोड ने कहा कि दारुल उलूम देवबंद मुसलमानों का रहनुमा है। कुरआन और हदीस की रोशनी में दिया गया फतवा बिल्कुल सही है। इस्लाम में पर्दे की खास महत्ता है इसलिए मुसलमान औरतों को चाहिए कि वह पर्दे का एहतेमाम जरूर करें।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story