×

UP में शुरू हुआ 'योगी राज', मंत्रिमंडल में इन 5 महिलाओं ने बनाई जगह, जानें क्यों?

aman

amanBy aman

Published on 19 March 2017 11:39 AM GMT

UP में शुरू हुआ योगी राज, मंत्रिमंडल में इन 5 महिलाओं ने बनाई जगह, जानें क्यों?
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: यूपी विधानसभा चुनाव में प्रचंड बहुमत के बाद रविवार (19 मार्च) को प्रदेश में 'योगी युग' की शुरुआत हो गई। लखनऊ के कांशीराम स्मृति उपवन में हुए शपथ ग्रहण समारोह में 22 कैबिनेट मंत्री, 14 राज्यमंत्री और 9 राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) ने भी अपने पद की शपथ ली। इनमें 5 महिलाओं को भी जगह मिली है। इनमें रीता बहुगुणा जोशी, स्वाति सिंह, अनुपमा जायसवाल, गुलाब देवी और अर्चना पाण्डेय के नाम हैं। जानें किन वजहों से इन्हें मंत्रिमंडल में मिली जगह।

रीता बहुगुणा जोशी

इस बार के यूपी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) में आईं रीता बहुगुणा जोशी ने मुलायम सिंह की छोटी बहू अपर्णा यादव को हराया। रीता-अपर्णा की टक्कर राजधानी की कैंट सीट के लिए हुई थी। इस चुनाव में रीता बहुगुणा जोशी ने मुलायम सिंह यादव की छोटी बहु अपर्णा को 33 हजार मतों से हराया। रीता बहुगुणा जोशी को योगी आदित्यनाथ के मंत्रिमंडल में कैबिनेट मंत्री के तौर पर जगह मिली है ।

बीजेपी में आने से पहले रीता बहुगुणा जोशी यूपी कांग्रेस की पूर्व प्रदेश अध्यक्ष थीं। रीता बहुगुणा विधानसभा का पिछला चुनाव भी इसी सीट से जीती थीं। पिछले चुनाव में उन्होंने बीजेपी के सुरेश तिवारी को हराया था। कांग्रेस से त्यागपत्र देने के बाद वो पिछले साल बीजेपी में शामिल हुईं। पार्टी ने उन्हें इसी सीट (लखनऊ कैंट) से उम्मीदवार घोषित किया। रीता बहुगुणा जोशी ने अपर्णा यादव को 33,000 मतों से हराया।

स्वाति सिंह

लखनऊ विश्वविद्यालय में प्रोफेसर और पिछले साल बीजेपी की महिला शाखा की अध्यक्ष नियुक्त की गई थीं। बीजेपी नेता और स्वाति सिंह के पति दयाशंकर सिंह के मायावती पर विवादित टिप्पणी के बाद पहली बार वो मीडिया के सामने आईं थीं। उन्होंने जिस लहजे में मायावती सहित बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के नेताओं और कार्यकर्ताओं के बयानों का जवाब दिया, उससे वो रातोंरात सुर्ख़ियों में आ गईं। पहली बार बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व की नजर स्वाति पर पड़ी। बीजेपी ने उन्हें लखनऊ के सरोजनी नगर विधानसभा सीट से मैदान में उतरा गया। स्वाति ने 34,047 वोट से जीत दर्ज की। इस सीट पर स्वाति सिंह का मुकाबला मुलायम सिंह के भतीजे अनुराग यादव से था। अनुराग यादव को जहां 74,129 वोट मिले। वहीं, स्वाति सिंह को कुल 1,08,176 वोट मिले।

अनुपमा जायसवाल

यूपी विधानसभा चुनाव में 'मोदी लहर' में बहराइच सदर सीट से बीजेपी नेता अनुपमा जायसवाल ने जीत दर्ज की। बता दें कि बीते 25 साल से यह सीट पर सपा का कब्ज़ा था। लेकिन अनुपमा की अगुवाई में यहां भगवा का झंडा फहरने लगा। मालूम हो कि बहराइच सदर इलाका मुस्लिम बाहुल्य इलाकों में गिना जाता है। इस सीट पर 1993 से लगातार जिले के कद्दावर नेता और पूर्व मंत्री डॉ. वकार अहमद शाह जीतते रहे हैं। लेकिन इस बार डॉ. शाह की जगह समाजवादी पार्टी ने उनकी पत्नी और पूर्व सपा सांसद रुबाब सईदा को प्रत्याशी बनाया था। वहीं, बीजेपी ने इस सीट से पार्टी की प्रदेश महामंत्री अनुपमा जायसवाल को मैदान में उतारा। हालांकि टक्कर कड़ी थी, लेकिन अनुपमा जायसवाल ने सईदा को 6,707 मतों के अंतर से शिकस्त दी।

गुलाब देवी

बीजेपी ने संभल की चंदौसी सीट से गुलाब देवी को मैदान में उतारा था। गुलाब देवी कल्याण सिंह सरकार में भी मंत्री रह चुकी हैं। वो पार्टी के दलित चेहरे के रूप में भी जानी जाती हैं। इस बार चुनाव में गुलाब देवी ने सपा-कांग्रेस गठबंधन की प्रत्याशी विमलेश कुमारी को 45,469 मतों से हराया। गुलाब की यह जीत संभल की सबसे बड़ी जीत थी। गुलाब देवी को कुल 1,04,806 वोट हासिल हुए थे। जीत के बाद गुलाब देवी ने व्यापारी और युवाओं के हित में काम करने की बात कही थी। इसलिए अब उम्मीद है कि योगी सरकार में मंत्री बाने के बाद वो अपने वादों को मूर्त रूप देंगी।

अर्चना पांडे

अर्चना पांडे पूर्व मंत्री रामप्रकाश त्रिपाठी की बेटी हैं। अर्चना छिबरामऊ से पहली बार विधायक बनी हैं। यह क्षेत्र ब्राह्मण बहुल है। माना जा रहा है कि ब्राह्मण चेहरा होने की वजह से उन्हें योगी सरकार में राज्यमंत्री बनाया गया है।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story