Top

गोरखपुर : महोत्सव समापन पर योगी के निशाने पर आया यादव परिवार

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 13 Jan 2018 3:30 PM GMT

गोरखपुर : महोत्सव समापन पर योगी के निशाने पर आया यादव परिवार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गोरखपुर : 11 जनवरी से 13 जनवरी तक आयोजित गोरखपुर महोत्सव आज खत्म हुआ। इस मौके पर बतौर मुख्य अतिथि उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मौजूद रहे। महोत्सव के समापन अवसर पर विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट योगदान करने वालों को सम्मानित किया गया। इस मौके पर पुस्तक मंथन का विमोचन भी किया गया।

ये भी देखें :गुटखा कंपनी बनी गोरखपुर महोत्सव की सहप्रायोजक, मामले ने पकड़ा तूल

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा बहुत लोगों की आदत होती है कुछ न कुछ बोलना। लेकिन गोरखपुर महोत्सव ने दिखाया कि गोरखपुर की क्या पहचान है। उन्होंने कहा कि अन्य महोत्सवों को भी लोगों ने देखा है। लेकिन इस महोत्सव में हर वर्ग हर क्षेत्र के लोगों जोड़ने का प्रयास हुआ। इसी तरह का आयोजन आगे होना चाहिए।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मैने रामगढ़ताल का दौरा इसलिए किया कि रामगढ़ ताल विश्व पर्यटन की दिशा में आगे बढ़ सके। गोरखपुर को भी आगे बढ़ना चाहिए। यूपी के हर गांव शहर को बढ़ना चाहिए। हमारा प्रयास है कि रामगढ़ताल पर्यटन के मानचित्र पर उभर कर आए। गोरखपुर महोत्सव को हर वर्ग का साथ मिला, प्रदेश सरकार ने इसपर बहुत कम पैसा खर्च किया।

उन्होंने कहा कपिलवस्तु महोत्सव और अयोध्या में दीपावली पर आयोजित दीपोत्सव पर भी उंगली उठाई गई। लेकिन लोग एक महोत्सव पर जितना खर्च कर देते है। हमने उससे कम ही किया। ये किसी परिवार का महोत्सव नहीं ये गोरखपुर समाज का महोत्सव है। लोगों को तब भी बुरा लगेगा जब हम बरसाना में होली मनाएंगे, चित्रकुट में संकीर्तन और गुहाराज की जयंती मनाएंगे। ये दृष्टि दोष है। इसका जनता समय आने पर जवाब देती है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story