Top

सादिया बनीं सबसे कम उम्र की पार्षद, 23 साल में हासिल किया मुकाम

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 1 Dec 2017 4:49 PM GMT

सादिया बनीं सबसे कम उम्र की पार्षद, 23 साल में हासिल किया मुकाम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ. अगर खुद में जज्‍बा हो तो सफलता उम्र के किसी भी पड़ाव पर हासिल की जा सकती है। यह कहना है लखनऊ से मात्र 23 साल की उम्र में पार्षद बनीं सादिया रफीक का। सादिया लखनऊ के जोन दो के वार्ड संख्‍या 34 तिलकनगर कुंडरी से पार्षद बनी हैं।इनका कहना है कि उम्र जरूर कम है लेकिन मन में समाज सेवा का भाव है। इसी भाव से समाज में अपना योगदान करने के लिए राजनीति में आई हूं।

ये भी देखें :प्रचंड जीत के बाद सीएम योगी की इस अदा पर सिर्फ कबीर याद आते हैं !

पिता से सीखा राजनीति का ककहरा

निर्दलीय प्रत्‍याशी के तौर पर जीत हासिल करने वाली सादिया रफीक ने बताया कि उन्‍हें पार्षद की सीढी तक पहुंचने का ककहरा उनके पिता रफीक अहमद ने सिखाया है। रफीक अहमद पूर्व पार्षद रह चुके हैं। वह भी निर्दलीय प्रत्‍याशी के तौर पर ही पार्षद पद पर जीते थे। इसके बाद वर्ष 2012 में उनके भाई आदिल को पिता ने समाज सेवा में लगाया। आदिल भी निर्दलीय प्रत्‍याशी के तौर पर जीता। उनके पिता और भाई ने अपने वार्ड में जमकर लोगों के लिए काम किया। सादिया का कहना है कि उनका जोन कट्टर बीजेपी का जोन है, इसके बाद भी निर्दलीय प्रत्‍याशी के रूप में बहुत बड़ा समर्थन मिला है।वह अभी एमिटी यूनिवर्सिटी में मॉस कॉम की छात्रा हैं लेकिन राजनीतिक रूप से सक्रिय रहकर समाज की सेवा करने की इच्‍छा रखती हैं।

वार्ड को तकनीक से जोडेंगी

सादिया रफीक ने बताया कि वह अपने वार्ड में पानी की व्‍यवस्‍था को सही करेंगी। इसके अलावा कूड़ा निस्‍तारण, प्रकाश की व्‍यवस्‍था के अलावा वह अपने वार्ड को डिजिटल रूप से आगे लेकर जाएंगी। वार्ड के निवासियों को तकनीक से जोडेंगी।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story