Top

रंग दिया रे भगवा ! अब लखनऊ में एनेक्‍सी ने भी बदल दिया चोला

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 29 Oct 2017 2:32 PM GMT

रंग दिया रे भगवा ! अब लखनऊ में एनेक्‍सी ने भी बदल दिया चोला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : यूपी में अब रंगों पर भी राजनीति होना शुरू हो गई है। पार्टियों ने खास रंगों को अपने तरीकों से कुछ इस तरह अपनाया है कि पार्टी विशेष की सत्‍ता आते ही उस रंग की पौ बारह होने लगती है। वर्तमान में यूपी में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है। योगी सरकार की पहली पसंद भगवा रंग है।

ये भी देखें :राग – ए- दरबारी: योगीजी, आल इज नॉट वेल! कहीं कुछ तो फेल!

शायद यही वजह है कि अब मुख्‍यमंत्री के पुराने कार्यालय यानि लाल बहादुर शास्‍त्री भवन को भगवा रंग में रंगा जा रहा है। हालांकि यह पहला मामला नहीं है। जब सत्‍ता के पसंदीदा भगवा रंग की तूती बोल रही है। इससे पहले भी ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं।

हॉस्पिटल से शुरू हुआ था सिलसिला

यूपी में भगवा रंग की तूती का पहला मामला प्रदेश में हॉस्पिटलों में भगवा रंग की चादर बिछाने के चलते सामने आया था। स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की इस पहल पर यूपी के परिवहन विभाग ने तुरंत अंत्‍योदय बसों को भगवा रंग में रंगना शुरू कर दिया। इतने पर लखनऊ नगर निगम ने कूड़ा उठाने वाली गाडियों पर भगवा रंग चढ़ा दिया। अब सीएम कार्यालय को ही भगवा रंग में रंग कर इस रंग के महत्‍व को उजागर किया जा रहा है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story