Top

डॉ. आम्बेडकर को श्रद्धांजलि देकर मायावती बोलीं अब देवी-देवताओं को बांट रही भाजपा

भाजपा ने पहले जाति के आधार पर लोगों को बांटा और अब देवी-देवताओं को भी बांट रही हैं। बसपा प्रमुख ने यह बात मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के उस बयान के संदर्भ में कही। जिसमें उन्होंने भगवान हनुमान को दलित समाज का बताया था।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 6 Dec 2018 10:52 AM GMT

डॉ. आम्बेडकर को श्रद्धांजलि देकर मायावती बोलीं अब देवी-देवताओं को बांट रही भाजपा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: बाबा साहब डॉ. भीमराव आम्बेडकर का परिनिर्वाण दिवस गुरुवार को आयोजित हुआ। सुबह में आयोजित होने वाले कार्यक्रम में बीएसपी प्रमुख मायावती किसी कारणवश नहीं पहुंच पाई थी। इसलिए उन्होंने दोपहर में कार्यक्रम स्थल पहुंचकर बाबा साहब डॉ. भीम राव अम्बेडकर को श्रद्धांजलि दी।

ये भी पढ़ें...CBI में खींचतान से जनता का भरोसा डगमगा रहा, SC ले संज्ञान- मायावती

इस दौरान मायावती ने लोगों को संबोधित करते हुए हनुमान मंदिरों में दलित पुजारियों की मांग को लेकर भाजपा पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि भाजपा ने पहले जाति के आधार पर लोगों को बांटा और अब देवी-देवताओं को भी बांट रही हैं।

बसपा प्रमुख ने यह बात मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के उस बयान के संदर्भ में कही। जिसमें उन्होंने भगवान हनुमान को दलित समाज का बताया था। मायावती नेे कहा कि बाबा साहेब ने भारत के संविधान में 'एक वोट एक मूल्य' की अवधारणा देकर एक समतामूलक समाज की कल्पना की थी लेकिन केंद्र में बैठी भाजपा सरकार इस संविधान को फेल कर देना चाहती है।

उन्होंने कहा कि देश का किसान भाजपा सरकार की नीतियों से परेशान हैं। यहां तक कि फसल बीमा योजना का असली लाभ गरीब किसानों को नहीं बल्कि कुछ अमीरों को हुआ है। उन्होंने कहा कि यही कारण है कि आज राजस्थान, मध्य प्रदेश व छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव में बसपा के प्रति जनता का उत्साह दिख रहा है।

ये भी पढ़ें...बीजेपी, आरएसएस एंड कंपनी को बसपा से माफी मांगनी चाहिए: मायावती

मायावती ने आगे कहा कि महिलायें सुरक्षा व सम्मान के लिये बेचैन हैं तथा करोड़ों बेरोजगार कालेधन की वापसी व रोजगार नहीं मिलने से आहत हैं, लेकिन बीजेपी व आरएसएस एण्ड कम्पनी के लोग अपनी डफली बजा रहे हैं कि ’’मन्दिर ज़रूर बनायेंगे’’ अर्थात सरकार जनहित, जनकल्याण व देश निर्माण आदि की सारी संवैधानिक कर्तव्यों व जिम्मेदारियों से मुक्त होकर मन्दिर निर्माण के कार्य में कम से कम अगले चुनाव तक जरूर लगी रहने पर कटिबद्ध लग रही है।

इनका अबतक भ्रमित करने वाला ही साबित होने वाला बहु-प्रचारित ’’विकास’’ का मुद्दा पूरी तरह से गौण हो गया लगता है। यह सब देश की मेहनतकश आमजनता खुली आंखों से देख रही है।

ये भी पढ़ें...बुलंदशहर हिंसा: मायावती का सरकार पर निशाना, बोलीं- अराजकता को संरक्षण देती है बीजेपी

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story