Top

वन नेशन वन इलेक्‍शन की उठी आवाज, बीजेपी के इस बड़े नेता के सामने हुई डिमांड

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 14 Oct 2018 12:08 PM GMT

वन नेशन वन इलेक्‍शन की उठी आवाज, बीजेपी के इस बड़े नेता के सामने हुई डिमांड
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हरदोई: जिले के गांधी मैदान में वन नेशन वन इलेक्शन को लेकर एक गोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें नेताओं ने इसको बेहद जरूरी बताया और कहा कि इससे राष्ट्र मजबूत होगा। इस कार्यक्रम में भाजपा के उत्तर प्रदेश के महामंत्री सुनील बसंल मुख्य अतिथि थे।

ऑनलाइन वोटिंग का भी उठा मुद्दा

हरदोई के गांधी भवन मैदान में आयोजित वन नेशन वन इलेक्शन गोष्ठी को संबोधित करते हुए हरदोई जिले के सांसद अंशुल वर्मा ने कहा कि ऑनलाइन वोटिंग कराई जानी चाहिए। जिससे सभी मतदाताओं को आधार से लिंक कर देना चाहिए। जिससे बैलेट और ईवीएम से वोटिंग समाप्त की जा सके। श्री वर्मा ने कहा कि हम डिजिटल इंडिया की बात करते हैं। वन नेशन वन इलेक्शन चुनाव की बात की जा रही हैं। सही मायने में हर नागरिक को एक सिंगल नॉनट्रांसफरेबल बैलेट दिया जाना चाहिए। देश हर नागरिक को आधार से लिंक कर दिया जाना चाहिए। जिससे ईवीएम से आगे की सोच को देश को जाना चाहिए। इससे डिजिटल इंडिया के सपने को साकार किया जा सके।

बीजेपी कार्यकाल में हुए कई सुधार

प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जनता ने व्यवस्थाओं के परिवर्तन सुधार के लिए चुना था। जिसमें सुधार हो रहे हैं और अभी भी कई व्यवस्थाओं में सुधार की आवश्यकता है। कहा कि 1968 तक विधानसभा और लोकसभा चुनाव में कांग्रेस का देश और प्रदेश में कांग्रेस जीतती थी लेकिन फिर मध्यावधि चुनाव होने से 1970 से अलग अलग विधान सभा लोकसभा होना शुरू हुए और उसका दुष्परिणाम सामने आया। मध्यावधि चुनाव से अलग-अलग चुनाव होने के कारण विकास प्रभावित होता है। वन नेशन वन इलेक्शन विकास काफी तेजी से होगा पैसे और समय की बचत होगी। चुनी हुई सरकारों को पूरे 5 वर्ष कार्य करने का समय मिलेगा क्योंकि चुनाव के दौरान लगने वाली आचार संहिता से विकास की गति धीमी पड़ जाते हैं इसके लिए वन नेशन वन इलेक्शन जरूरी है।

संविधान संशोधन नेताओं की सहूलियत के लिए हुए

पूर्व राज्यसभा सांसद नरेश अग्रवाल ने कहा कि संविधान में जो भी संशोधन हुए वह सिर्फ नेताओं के लिए हुए इसलिए मैं कहता हूं कि इस संविधान में कहीं न कहीं गड़बड़ है। आज कांग्रेस अध्यक्ष प्रधान मंत्री को चोर कह रहे हैं। अगर हम अपने प्रधानमंत्री को चोर कहेंगे तो विश्व में हमारी क्या इमेज जाएगी। हमारी तमाम नीतियों से विरोध हो सकता है लेकिन हम अपने प्रधानमंत्री को चोर नही कह सकते। उन्होंने कहा कि जिन्होंने प्रधानमंत्री को चोर कहा है उन्हें राष्ट्र से माफी मांगनी चाहिए। मैं अमेरिका को कभी हिंदुस्तान का दोस्त नहीं मानता। हमारा स्वाभाविक मित्र रूस है। हम मिसाइल खरीद रहे हैं। अमेरिका कह रहा है प्रतिबंध लगा देगा।

विश्व के लोगों को शायद यह मालूम नहीं कि चीन का युद्ध हुआ था तो भारत में कितने लोगों ने एक समय का भोजन छोड़ दिया था। लेकिन अगर अमेरिका हिंदुस्तान पर प्रतिबंध लगाता है तो अमेरिका को सोचना चाहिए विश्व का सबसे बड़ा बाजार भारत है। विश्व के सबसे बड़े बाजार को छोड़कर अमेरिका जाएगा कहां। नरेश अग्रवाल ने कहा कि यूपीए में नेता यह बता दें कि कौन प्रधानमंत्री का उम्मीदवार है। हमारे उत्तर प्रदेश में ही कई प्रधानमंत्री के उम्मीदवार हैं। कोई कोलकाता में भी उम्मीदवार है तो मुंबई में भी है लोग कहते हैं कि उम्मीदवार आंध्र प्रदेश में भी है और अब तो मरी हुई पार्टी के लोग भी पीएम पद के उम्मीदवार बन रहे हैं।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story