Politics

महाराष्ट्र में नई सरकार के गठन को लेकर भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) और शिवसेना के बीच सियासी गतिरोध जारी है। बीजपी और शिवसेना के बीच 50-50 फॉर्मूले पर अब तक सहमति नहीं बन पाई। महाराष्ट्र विधानसभा का कार्यकाल शनिवार को खत्म हो रहा है।

आरएसएस संघ प्रमुख मोहन भागवत अयोध्‍या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद सामाजिक-धार्मिक सौहार्द बनाने की अपील करेंगे। आरएसएस संघ प्रमुख मोहन भागवत अयोध्‍या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले  के बाद देश को संबोधित करेंगे।

झारखंड में अगामी विधानसभा चुनाव में जेएमएम 45 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने साफ कहा है कि उनकी पार्टी राज्य में कम से कम 45 सीटों पर चुनाव लड़ेगी।और  बीजेपी के खिलाफ बनने वाले महागठबंधन का पूरजोर जवाब देगी।

महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए अब कुछ ही समय बचे हैं। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेताओं ने गुरुवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की, लेकिन सरकार बनाने का दावा पेश नहीं किया। इसके अलावा शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने पार्टी विधायकों के साथ बैठक की।

नारायण गौड़ा ने अपने समर्थकों से बात करते हुए कहा कि कोई मेरे पास आया और मुझे सुबह 5 बजे (कांग्रेस-जेडीएस सरकार गिरने से पहले) बीएस येदियुरप्पा के आवास पर ले गया। जब हम उनके घर पहुंछे तो येदियुरप्पा पूजा कर रहे थे। पूजा के बाद उन्होंने मुझे बैठने के लिए कहा।

अयोध्या प्रकरण में साक्ष्यों और सबूतों के आधार पर सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला आएगा, हमें मान्य होगा। ये बातें जमीयत उलेमा-ए-हिंद के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी ने बुधवार को प्रेस कांफ्रेंस में कही है।

यूपी में 11 सीटों पर हुए उपचुनाव में खराब प्रदर्शन के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती ने बड़े बदलाव की घोषणा कर दी। उन्होंने कोऑर्डिनेटर, मंडल व जोन व्यवस्था भंग कर सेक्टर व्यवस्था लागू करने का एलान कर दिया।

आज दिल्ली में कांग्रेस के सीनियर लीडर  अहमद पटेल ,केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मिले। अहमद पटेल ने ये मुलाकात गडकरी के घर पर की। ऐसी खबर है महाराष्ट्र सरकार को लेकर ये मुलाकात हुई।  इस मुलाकात के बाद कई अटकलें लगाई जा रही थी।

विधानसभा चुनाव परिणाम के बाद से महाराष्ट्र में सरकार को लेकर अभी तक तालमेल नहीं बन पाया है। नई सरकार बनने को लेकर अभी भी संशय बरकरार है। नेताओं का दिल्ली-मुंबई आना-जाना लगा है।

जेपी और शिवसेना के बीच लगातार सियासी हलचल मची हुई है लेकिन स्थिति अभी तक साफ नहीं हो पाई है। वहीं अब कहा जा रहा है कि बदलते समीकरण के बीच अगले 48 घंटे बेहद अहम हैं।