Top

फूलन देवी के शहादत दिवस पर निषादों की हुंकार, कहा- ले के रहेंगे अपना हक

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 25 July 2018 12:01 PM GMT

फूलन देवी के शहादत दिवस पर निषादों की हुंकार, कहा- ले के रहेंगे अपना हक
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गोरखपुर: निर्बल इंडियन शोषित हमारा आम दल के आवाहन पर बुधवार को चंपा देवी पार्क में वीरांगना फूलन देवी के शहादत दिवस व गुरू मस्तेन्द्रनाथ नाथ महाराज का स्मृति दिवस समारोह आरक्षण महासंग्राम रैली के रूप में मनाया गया। इस आरक्षण महासंग्राम रैली की अध्यक्ष अध्यक्षता राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉक्टर संजय निषाद ने किया, वही कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रुप में गोरखपुर सदर लोकसभा में के सांसद इंजीनियर प्रवीण कुमार निषाद रहे। कार्यक्रम में समाजवादी पार्टी के जिला अध्यक्ष प्रह्लाद यादव सहित अन्य पार्टियों के कार्यकर्ता व पदाधिकारी भी मौजूद रहे।

याद आईं फूलनदेवी

आरक्षण महासंग्राम रैली को संबोधित करते हुए निर्बल इंडियन शोषित हमारा आम दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉक्टर संजय निषाद ने कहा कि देश की आजादी की लड़ाई में निषादों का गौरवशाली इतिहास रहा है। आजादी के लिए समाधान निषाद, वंश लोचन निषाद, सिंधु माझी, तिलकामांझी, निशा उधम सिंह सहित सैकड़ों क्रांतिकारियों ने अपने प्राणों की आहुति दी है। वही वीरांगना फूलन देवी ने समाज को पूरे देश प्रदेश में समाज को एकजुट कर उनके मान सम्मान स्वाभिमान को दिलाने का कार्य कर रही थी। आज के महिलाओं के लिए प्रेरणा स्रोत थीं क्योंकि जुल्म के खिलाफ आवाज उठाएं तथा जून को सहन न करके जन्म का बदला सब लेने का काम किया था। आज उनका 18 वां शहादत दिवस है। लेकिन उन्हीं के हत्यारों को प्रदेश सरकार के मुखिया अपने गाड़ियों में घुमा रहे हैं। मंच की शोभा बना रहे हैं, आने वाले लोकसभा चुनाव में निषाद समाज भाजपा की मोदी योगी सरकार को उखाड़ फेंकने का काम करेगी। वही गुरु मस्तेन्द्रनाथ के बारे में बताते हुए कहा कि गुरु गोरक्षनाथ मंदिर मठ के संस्थापक गुरु मस्तेन्द्रनाथ महाराज थे। उन्होंने नाथ पंथ की स्थापना की थी, उनका जन्म बंगाल में एक मछुआरे मनीषा के हुआ हुआ था इनके गुरु दत्तात्रेय थे इन्हीं के अप्रूवल से नाथ संप्रदाय के गुरु गोरखनाथ का जन्म हुआ था। इन्होंने ही गोरखनाथ जी का लालन पालन पोषण किया था, उन्हीं की देखरेख में की शिक्षा दीक्षा हुई थी। लेकिन आज उत्तराखंड पिथौरागढ़ के आतताई योगी आदित्यनाथ के कब्जे में है, जिसको मुक्त कराकर निषादों के हाथों मैं सौपना है।

वहीं गोरखपुर के सदर सांसद इंजीनियर प्रवीण निषाद आरक्षण महा रैली को संबोधित करते हुए कहा कि आज निषादों का दबा कुचला समाज जागरूक हो चुका है। अब निषाद किसी भी पार्टी के बहकावे में आने वाला नहीं आरक्षण का संवैधानिक अधिकार अब यह समाज लेकर रहेगा, संसद जैसे उच्च सदन में निषाद वंश इन नेताओं को अपनी बात रखने से रोका जाता है। लेकिन आने वाले समय में यह दबा कुचला समाज निषाद पार्टी के गठबंधन को वोट देकर हिस्सेदारी की सरकार बनाकर अपना हक, अधिकार, मान सम्मान, स्वाभिमान तथा अपना आरक्षण लेने का काम करेगी।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story