पीएम मोदी दो दिवसीय भूटान दौरे से स्वदेश लौटे, यात्रा को बताया यादगार

मोदी का भूटान का यह दूसरा और इस साल मई में दोबारा प्रधानमंत्री चुने जाने के बाद पहला दौरा था। भूटान से रवाना होने से पहले मोदी ने कहा, ‘धन्यवाद भूटान ! यह यादगार दौरा रहा।

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  रविवार को अपनी भूटान की दो दिवसीय यात्रा पूरी कर वापस भारत लौट आए हैं।

दिल्ली हवाई अड्डे पर विदेश मंत्री एस जयशंकर ने पीएम मोदी की अगवानी।

मोदी शनिवार को भूटान पहुंचे थे।

मोदी का भूटान का यह दूसरा और इस साल मई में दोबारा प्रधानमंत्री चुने जाने के बाद पहला दौरा था।

भूटान से रवाना होने से पहले मोदी ने कहा, ‘धन्यवाद भूटान ! यह यादगार दौरा रहा।

इस शानदार देश के लोगों से मुझे जो मोहब्बत मिली है उसे कभी भुलाया नहीं जा सकता।

यहां कई ऐसे कार्यक्रम हुए जिनमें मुझे हिस्सा लेने का गौरव प्राप्त हुआ।

ये भी पढ़ें…अश्लील हुए रामू: गंदी-गंदी वीडियो एक्ट्रेस को दिखा रहे थे, अब हुआ खुलासा

पीएम मोदी शनिवार को पहुंचे थे भूटान

इस यात्रा के परिणामस्वरूप द्विपक्षीय संबंध और प्रगाढ़ होंगे।’

मोदी शनिवार को भूटान पहुंचे थे।

मोदी का भूटान का यह दूसरा और इस साल मई में दोबारा प्रधानमंत्री चुने जाने के बाद पहला दौरा था।

थिंपू में प्रवास के दौरान मोदी ने भूटान के प्रधानमंत्री लोटे शेरिंग के साथ शनिवार को व्यापक चर्चा की।

इसके अलावा उन्होंने कई क्षेत्रों में द्विपक्षीय साझेदारी को आगे बढ़ाने के कदमों पर भी चर्चा की।

ये भी पढ़ें…मेमोरी कार्ड असली है या नकली, इन तीन आसान तरीकों से चुटकियों में ऐसे लगाये पता

दस सहमति पत्रों पर हुए हस्ताक्षर

पीएम मोदी की इस यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच दस क्षेत्रों में सहमति पत्रों पर हस्ताक्षर किये गए।

इनमें अंतरिक्ष अनुसंधान, विमानन, सूचना प्रौद्योगिकी, ऊर्जा और शिक्षा के क्षेत्र शामिल हैं।

प्रधानमंत्री ने शनिवार को भूटान नरेश जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक से मुलाकात की।

भारत-भूटान की साझेदारी को आगे ले जाने वाले अनुकरणीय विचारों का आदान-प्रदान किया।

भूटान के चौथे नरेश जिग्मे सिंघे से पीएम मोदी ने की मुलाकात

बाद में, प्रधानमंत्री मोदी ने भूटान के चौथे नरेश जिग्मे सिंघे वांगचुक से मुलाकात की।

भारत और भूटान के संबंधों को मजबूत करने के उनके निरंतर एवं अनोखे मार्गदर्शन के लिए उनकी सराहना की।

प्रधानमंत्री ने रविवार को प्रतिष्ठित रायल यूनिवर्सिटी आफ भूटान के छात्रों को संबोधित किया।

उनसे अपने देश को नई ऊंचाईयों पर ले जाने के लिए कठिन मेहनत करने के लिए कहा।

ये भी पढ़ें…10 साल पहले पति की हो गई थीं मौत, पत्नी ने अब ऐसे दिया 2 बच्चों को जन्म