Top

केंद्र सरकार राजनीतिक फायदे के लिए कर रही सेना का इस्तेमाल: राहुल गांधी

राहुल ने कहा है कि केन्द्र सरकार सेना का इस्तेमाल राजनीतिक लाभ के लिए करती है। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार ने सर्जिकल स्ट्राइक का इस्तेमाल राजनीतिक फायदे और राफेल डील का इस्तेमाल एक व्यावसायी की पूंजी बढ़ाने के लिए किया।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 8 Dec 2018 12:06 PM GMT

केंद्र सरकार राजनीतिक फायदे के लिए कर रही सेना का इस्तेमाल: राहुल गांधी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: सर्जिकल स्ट्राइक का लेकर शुरू हुआ आरोप- प्रत्यारोप का दौर अभी भी जारी है। सर्जिकल स्ट्राइक को 'जरूरत से ज्यादा तूल दिए जाने संबंधी सेना के पूर्व अधिकारी लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) डीएस हुड्डा के एक कथित बयान को लेकर अब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सरकार पर हमला बोला है।

राहुल ने कहा है कि केन्द्र सरकार सेना का इस्तेमाल राजनीतिक लाभ के लिए करती है। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार ने सर्जिकल स्ट्राइक का इस्तेमाल राजनीतिक फायदे और राफेल डील का इस्तेमाल एक व्यावसायी की पूंजी बढ़ाने के लिए किया।

कांग्रेस अध्यक्ष ने आरोप लगाया, ''उन्होंने (सरकार) ने राजनीतिक पूंजी के लिए सर्जिकल स्ट्राइक का इस्तेमाल किया और एक व्यावसायी की पूंजी में 30 हजार करोड़ रुपये में बढ़ोतरी करने के लिए राफेल सौदे का इस्तेमाल किया।

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हुड्डा के बयान को लेकर सरकार पर निशाना साधा।

ये भी पढ़ें...नेशनल हेराल्ड: राहुल, सोनिया को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका, जारी रहेगी इनकम टैक्स की जांच

उन्होंने कहा, ''लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त्) हुड्डा आपका धन्यवाद कि आपने सरकार की ओर से सर्जिकल स्ट्राइक का राजनीतिकरण किए जाने को बेनकाब कर दिया है। कोई भी हमारे बहादुर जवानों के पराक्रम और बलिदान का इस्तेमाल सस्ते तुच्छ राजनीतिक लाभ के लिए नहीं कर सकता।

दरअसल, खबरों के मुताबिक हुड्डा ने कहा है कि सर्जिकल स्ट्राइक की सफलता पर शुरुआती उत्साह स्वाभाविक था, लेकिन इसको जरूरत से ज्यादा तूल दिया गया, जो अनुचित था।

मालूम हो कि जब 29 सितंबर, 2016 को नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पार आतंकी ठिकानों को निशाना बनाकर सर्जिकल स्ट्राइक की गई थी। उस समय हुड्डा उत्तरी सेना के कमांडर थे। हुड्डा के बयान पर फिलहाल भाजपा एवं सरकार की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली पाई है।

ये भी पढ़ें...राहुल गांधी कहिन- प्रधानमंत्रीजी, एक बार तो प्रेस कॉन्फ्रेंस करिए

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story