Top

राहुल का 'जेटली' वार, कहा- PM मोदी माल्या के दावे की कराए स्वतंत्र जांच, वित्त मंत्री से लें इस्तीफा

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 13 Sep 2018 5:38 AM GMT

राहुल का जेटली वार, कहा- PM मोदी माल्या के दावे की कराए स्वतंत्र जांच, वित्त मंत्री से लें इस्तीफा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: देश की अर्थव्यवस्था को करोड़ों का नुकसान पहुंचाकर विदेश भागने वाले शराब कारोबारी विजय माल्या को लेकर केंद्र सरकार की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है। विपक्ष रोज इस मुद्दे पर सवाल उठाकर सरकार को घेरने की कोशिशों में जुटी हुई है। ऐसे में माल्या के वित्त मंत्री अरुण जेटली को लेकर दिए गए बयान को लेकर एक बार फिर से सियासी बवाल मचा गया है।

विजय माल्या ने लंदन कोर्ट में सुनवाई के बाद दावा किया कि देश छोड़ने से पहले उन्होंने 'सेटलमेंट' को लेकर वित्त मंत्री अरुण जेटली से मुलाकात की थी। माल्या के इस बयान के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने जेटली पर हमला बोलते हुए पीएम मोदी से पूरे मामले की स्वतंत्र जांच कराने की मांग की है।



जांच होने तक जेटली के वित्त मंत्री पद पर रहने पर आपत्ति-राहुल

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, 'विजय माल्या द्वारा लगाए गए आरोप बेहद गंभीर हैं। प्रधानमंत्री को इस मामले में तुरंत एक स्वतंत्र जांच करानी चाहिए। जब तक जांच पूरी न हो, तब तक अरुण जेटली को वित्त मंत्री के पद पर नहीं रहना चाहिए।'

'माल्या' और 'चोकसी' पर ये है कांग्रेसियों की राय

वहीं, सीनियर एडवोकेट और कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा, 'कांग्रेस लंबे समय से यह कह रही है कि सिर्फ विजय माल्या ही नहीं, बल्कि नीरव मोदी और मेहुल चोकसी और कई अन्य को बिना कार्रवाई जाने दिया गया।' कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा, 'विजय माल्या, तो श्री अरुण जेटली से मिल, विदाई लेकर, देश का पैसा लेकर भाग गया है? चौकीदार नहीं, भागीदार है।

जेटली ने ब्लॉग लिखकर आरोपों पर दी सफाई

माल्या के भारत छोड़ने से पहले वित्त मंत्री से मुलाकात की खबरों को अरुण जेटली ने ब्लॉग लिखकर खारिज किया है। जेटली ने लिखा, 'विजय माल्या ने कहा कि वह भारत छोड़ने से पहले सेटलमेंट ऑफर को लेकर मुझसे मिले थे। तथ्यात्मक रूप से यह बयान पूरी तरह झूठ है। 2014 से अब तक मैंने माल्या को मुलाकात के लिए कोई अपॉइंटमेंट नहीं दिया है, ऐसे में मुझसे मिलने का सवाल ही नहीं उठता।'

अपने ब्लॉग में जेटली ने लिखा, 'हालांकि वह (माल्या) राज्यसभा सदस्य थे और कभी-कभी सदन में आते थे। सदन की कार्रवाई के बाद एक बार मैं अपने कमरे की तरफ जा रह था। वह दौड़ते हुए मेरी तरफ आए थे। इस दौरान उन्होंने कहा था, 'मैं सेटलमेंट के लिए एक ऑफर तैयार कर रहा हूं।'

ये भी पढ़ें...विजय माल्या ‘भगोड़ा अपराधी’ घोषित, फेरा मामले में आरोपी करार

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story