Top

सपा के भाग्य में लिख गई गुटबंदी, अखिलेश-शिवपाल के बाद अब यहां भी.....

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 17 April 2017 9:50 AM GMT

सपा के भाग्य में लिख गई गुटबंदी, अखिलेश-शिवपाल के बाद अब यहां भी.....
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आगरा : विधानसभा चुनाव में करारी हार के बाद भी जिले में समाजवादी पार्टी के नेता गुटबंदी में लगे हुए हैं। नगर निगम चुनाव की आहट के बाद ये गुटबाजी एक बार फिर सामने आई, सपा की जिला और शहर इकाई के मतभेद नगर निगम चुनाव के प्रभारी पद पर खुलकर सामने आ गए हैं। जिलाध्यक्ष ने प्रभारी का नाम तय कर हाईकमान को भेज दिया था, अब शहर अध्यक्ष इसे अपने अधिकारों का अतिक्रमण बता विरोध जता रहे हैं।

ये भी देखें :राशन कार्ड बनवाने के नाम पर रेप करने वाले AAP के पूर्व मंत्री अब BJP के लिए मांग रहे वोट

जिले में नगर निकाय चुनावों के लिए परिसीमन प्रक्रिया शुरू होते ही सपा में हलचल शुरू हो गई है। वहीँ जिलाध्यक्ष और शहर अध्य्क्ष के बीच चल रही गुटबाजी खुलकर सामने आई। बीते दिनों सपा जिलाध्यक्ष राम सहाय यादव ने जिला व शहर इकाई की सर्वसम्मति की बात कह अंगद सिंह धारिया को नगर निगम चुनाव के लिए प्रभारी बनाने का अनुरोध हाईकमान को भेज दिया। अंगद सिंह धारिया विस चुनाव के समय रालोद छोड़कर सपा में शामिल हुए थे।

वहीँ शहर अध्यक्ष रहीसुद्दीन का कहना है कि जिला इकाई ने उनके अधिकारों का अतिक्रमण किया है। नगर निगम चुनाव पूरी तरह से शहर का मामला है, इसके लिए प्रभारी तय करने का उनको कोई अधिकार नहीं है। इस मामले में हाईकमान को अवगत कराया जाएगा।

इसपर इधर जिलाध्यक्ष रामसहाय का कहना है कि परिसीमन में गड़बड़ी की शिकायतें आ रही थीं। कार्यक्रम में जिला व शहर की पूरी कार्यकारिणी ने एकमत होकर समर्थन दिया था। इसी कारण आलाकमान को संस्तुति भेजी गई है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story