Top

सपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी : एकजुट नहीं दिखा यादव परिवार, अखिलेश लेंगे गठबंधन पर फैसला

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 28 July 2018 8:10 AM GMT

सपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी : एकजुट नहीं दिखा यादव परिवार, अखिलेश लेंगे गठबंधन पर फैसला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : समाजवादी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव एवं वरिष्ठ नेता शिवपाल यादव में दूरियां दिखाई दी। कार्यकारिणी की बैठक में न तो मुलायम सिंह पहुंचे और न ही शिवपाल यादव।

हालांकि राष्ट्रीय महासचिव रामगोपाल यादव ने कहा कि यह कोई जरूरी नहीं कि बैठक में सभी लोग पहुंचें ही। राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शनिवार को राजधानी स्थित सपा मुख्यालय में हुई। कार्यकारिणी ने आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर पार्टियों से गठबंधन और सीटों के बंटवारे से संबंधित फैसले लेने के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को अधिकृत किया गया।

रामगोपाल यादव ने कहा, "गठबंधन को लेकर अखिलेश यादव जो भी फैसला लेंगे, वह पार्टी को मान्य होगा।" हालांकि किससे और कितनी सीटों पर समझौता होगा, इस बारे में उन्होंने कोई जानकारी नहीं दी।

एक सवाल के जवाब में रामगोपाल ने कहा, "केंद्र में 17 दलों की सरकार है। इसका मतलब यह नहीं है कि सभी दलों के नेता मोदीजी ही हो गए हैं। हर दल का अपना नेता होता है।"

कार्यकारिणी की बैठक से सपा के वरिष्ठ नेता आजम खां गायब रहे। इस संबंध में जब रामगोपाल यादव से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि जरूरी नहीं कि सभी लोग बैठक में मौजूद हों। 90 प्रतिशत सदस्य मौजूद थे। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी मौजूद थे। इतना काफी है।

कार्यकारिणी की बैठक में सपा ने आगामी लोकसभा चुनाव बैलेट से कराने की मांग उठाई है। रामगोपाल यादव ने कहा कि चुनाव आयोग ने उनकी बात नहीं मानी तो वह उसके दफ्तर में धरने पर बैठ जाएंगे। न कोई अंदर जा सकेगा और न ही बाहर।

रामगोपाल से यह पूछे जाने पर कि यदि फिर भी बात नहीं मानी गई तो सपा क्या करेगी? इस पर राम गोपाल ने कहा, "गांधीजी का देश है, सत्याग्रह ही किया जा सकता है।"

प्रधानमंत्री मोदी के लखनऊ दौरे को लेकर रामगोपाल ने कहा कि 'देखते जाइए अभी तो उन्हें रोजाना उत्तर प्रदेश का दौरा करना पड़ेगा।'

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story