Top

सोशल मीडिया पर बीजेपी को जवाब देने के लिए सपा के 'डिजिटल यौद्धा'

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 19 July 2018 8:47 AM GMT

सोशल मीडिया पर बीजेपी को जवाब देने के लिए सपा के डिजिटल यौद्धा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: समाजवादी पार्टी ने अब बीजेपी को पटकनी देने के लिए कार्यकर्ताओं की डिजिटल टीम तैयार करनी शुरू कर दी है। इस टीम को "डिजिटल यौद्धा" का नाम दिया गया है। यह डिजिटल टीम सपा और योगी सरकार के कामों को पूर्व की सपा सरकार के कामों की कसौटी पर कसेगी।

यह भी पढ़ें: राहुल गांधी का बीजेपी पर हमला, बोले- सच्चाई छिपाने में विश्वास रखती है पार्टी

ऐसे में आने वाले दिनों में सपा के डिजिटल यौद्धा और बीजेपी की आईटी टीम के धुरंधरों के बीच सोशल मीडिया पर दिलचस्प वार देखने को मिल सकता है। अखिलेश यादव जिस तरह योगी सरकार के हर क़दम को अपनी सरकार के एजेण्डे को लागू करने के रूप में देख रहे हैं, और बाक़ायदा इस मुद्दे को लेकर मीडिया और सोशल मीडिया के ज़रिये सत्ताधारी दल पर हमलावर भी हैं।

उन्ही की राह पर चलते हुए सपा के डिजिटल यौद्धा फेसबुक, ट्विटर और व्हाट्सएप समेत अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर केंद्र और प्रदेश सरकार की पोल खोल अभियान में जुटेंगे।

लोक सभा चुनाव 2014 में नरेन्द्र मोदी नीति राजग सरकार के गठन में सोशल मीडिया का अहम् किरदार रहा है। आईटी के युग में नरेन्द्र मोदी ने एक जनप्रतिनिधि के तौर पर अपनी भरपूर उपस्थिति दर्ज कराई है। ट्विटर पर उन के लाखों फॉलोवर्स हैं।

इस के इतर बीजेपी का आईटी सेल भी सोशल मीडिया पर अपनी धमक दर्ज कराता रहा है बीते कुछ चुनावों में इस की नज़ीर भी सामने आती रही है। ऐसे में सपा समेत तमाम विपक्षी दल सोशल मीडिया की ताक़त को नज़र अंदाज़ नहीं कर सकते। सपा की डिजिटल यौद्धा टीम को इसी तैयारी का हिस्सा माना जा रहा है। जो लोक सभा चुनाव 2019 के चुनाव से पहले बीजेपी आईटी सेल के धुरंधरों को सोशल मीडिया पर जवाब देने के लिए सक्रिय हो रही है।

समाजवादी पार्टी का मुख्य फोकस उन युवाओं पर है, जो अपने कैरियर के शुरुवाती दौर में ही बदलाव की राह देख रहे हैं। सपा का ग्रामीण छेत्र के युवाओं को फेसबुक, ट्वीटर, व्हाट्सअप के ज़रिये जोडने की योजना है। केंद्र सरकार के युवाओं को रोज़गार देने और किसानो की आय दोगुनी करने के वादे की हकीकत ग्रामीण युवाओं को बताई जायेगी।

उन्हें बीजेपी सरकार में बढ़ती साम्प्रदाइकता और जातिवादिता के खिलाफ खड़े होने के लिए प्रेरित करने की योजना है। वैसे देखा जाए तो सपा के गठन के बाद से ही पिछड़ा वर्ग, पार्टी का बेस वोटर रहा है। पर बदल समय के लिहाज़ से उन्हें सभी वर्गों के वोटरों तक अपनी आवाज़ पहुंचाने पर मजबूर होना पड़ा है इसी लिए सपा ज़मीनी स्तर पर कार्यकर्ताओं को उत्साहित करने के अलावा सोशल मीडिया पर भी सत्ताधारी दल से दो-दो हाथ करने को तैयार है।

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story