Top

कायदे कानून की बातें करने वाले योगी, OSD नियुक्ति पर फंसे

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 29 Aug 2017 12:11 PM GMT

कायदे कानून की बातें करने वाले योगी, OSD नियुक्ति पर फंसे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: जो हम आपको बताने वाले हैं, वैसे देखा जाए तो ये बड़ा मामला नहीं है लेकिन बीजेपी जिस तरह नियम कायदे और कानून की बात करती है उससे ये मामला बड़ा हो गया है। दरअसल सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने जो ओएसडी चुने हैं, उनके बारे में शासन को किसी प्रकार की कोई जानकारी नहीं है। ये खुलासा एक आरटीआई के जवाब में हुआ है।

ये भी देखें:Super Monday: डोकलाम गतिरोध खत्म, भूटान ने ली चैन की सांस

यूपी के सीएम योगी ने 30 जून को अपने लिए 5 विशेष कार्याधिकारी (ओएसडी) चुने इनका चुनाव बिना किसी नियम, अधिनियम के सिर्फ योगी के आदेश पर हुआ ओएसडी पद पर नियुक्ति हेतु 5 अस्थाई निःसंवर्गीय पदों का सृजन कर इन पदों पर राजभूषण सिंह रावत, अभिषेक कौशिक, संजीव सिंह, उमेश सिंह और धर्मेंद्र चौधरी को बिना किसी चयन प्रक्रिया के ही नियुक्ति दे दी।

ये भी देखें:चीन के दम पर पाक ने बंद की US से बातचीत, आतंकवाद पर मिली थी फटकार

इसका सीधा सा अर्थ है, कि सीएम अपने जिस कृपापात्र को चाहे अपना ओएसडी बनाये फिर चाहे वह अनपढ़, नाकारा और अनुभवहीन ही क्यों न हो।

चौंकाने वाला यह खुलासा राजधानी लखनऊ के समाजसेवी संजय शर्मा द्वारा यूपी के मुख्यमंत्री कार्यालय में बीते 5 जून को दायर की गई एक आरटीआई पर यूपी के सचिवालय प्रशासन अनुभाग 1 के अनुभाग अधिकारी विजय कुमार मिश्र द्वारा बीते 20 जुलाई को भेजे गए जवाब से हुआ है।

ये भी देखें:अमेरिका: तूफान ‘हार्वे’ के कहर से तेल रिफाइनरियां प्रभावित, कीमतें लुढ़की

आरटीआई के जवाब में बताया गया कि मुख्यमंत्री के ओएसडी पद पर नियुक्ति की प्रक्रिया के संबंध में न तो कोई शासनादेश है और न ही कोई अधिनियम प्रख्यापित है। विशेष कार्याधिकारी के पद के लिए कोई शैक्षिक अर्हता या योग्यता निर्धारित न होने की सूचना भी आरटीआई के जवाब में दी गई है।

ये भी देखें:पप्पू यादव बोले-बिहार की बाढ़ राजनीतिक आपदा है, लूट सको तो लूट लो

मजे की बात ये है कि योगी के इन 5 ओएसडी की योग्यताओं, अनुभव, पांचों को आबंटित कार्य, इनके द्वारा किये गए कार्य, इनकी चल अचल संपत्ति, इनके गृह जनपदों और इनकी राजनैतिक दलों से संबद्धता के बारे में सिर्फ सीएम को पता है शासन के पास इनकी कोई भी जानकारी नहीं है।

ये भी देखें:जज ने कहा राम रहीम जानवरों की तरह पेश आया तो क्यों करें इस पर रहम

आपको बता दें, ये पद एक संवेदनशील, जिम्मेदारीपूर्ण, राजपत्रित पद है और इस पद पर बिना नियम कानून की जा रही मनमानी नियुक्तियां अवैध होने के कारण विधिशून्य हैं। अयोग्य और सीएम के चापलूसों की नियुक्ति होने की दशा में इसका खामियाजा जनता को ही भुगतना पड़ता है, जबकि इनको वेतन-भत्ते जनता के टैक्स के पैसों से ही दिए जाते हैं संजय अब इस मामले को उच्च न्यायालय में ले जाने का मन बना रहे हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story