Top

मोहसिन रजा ने कहा- AIMPLB है मौलवी पर्सनल लॉ बोर्ड, शरीयत का हिस्सा नहीं तीन तलाक

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 18 April 2017 9:05 AM GMT

मोहसिन रजा ने कहा- AIMPLB है मौलवी पर्सनल लॉ बोर्ड, शरीयत का हिस्सा नहीं तीन तलाक
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: योगी सरकार में अल्पसंख्यक मंत्री मोहसिन रजा ने भी मंगलवार को तीन तलाक पर प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा, ''तीन तलाक से महिलाओं का उत्पीड़न होता है और इस्लाम ऐसी चीजों की इजाजत नहीं देता है। यह शरीयत का हिस्सा नहीं है। ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) को बैन कर देना चाहिए।''

बता दें दो दिन पहले ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक में ट्रिपल तलाक का गलत इस्तेमाल करने वालों का सामाजिक बहिष्कार करने की बात कही गई थी।

यह भी पढ़ें...VIDEO: AIMPLB की बैठक ख़त्म, तीन तलाक़ के लिए जारी हुआ CODE OF CONDUCT

और क्या बोले मोहसिन रजा ?

-ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड जैसे ऑर्गनाइजेशन लोगों के लिए काम नहीं करते।

-इन्हें पूरी तरह से बैन कर देना चाहिए। ये संविधान के खिलाफ काम कर रहे हैं।

-तीन तलाक पर कानून बनना चाहिए और औरतों को उनका अधिकार मिलना चाहिए।

-इसे मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड नहीं, बल्कि मौलवी पर्सनल लॉ बोर्ड कहना चाहिए।

यह भी पढ़ें...तीन तलाक पर सीएम योगी को याद आया द्रौपदी का चीरहरण, बोले- क्यों मौन हैं कुछ लोग ?

मोहसिन के बयान पर ये बोले आजम

मोहसिन रजा के आॅल इंडिया पर्सनल लाॅ बोर्ड पर बैन की मांग पर सपा नेता आजम खां ने कहा कि अगर यह बात किसी पढ़े-लिखे आदमी ने कही होती तो मैं जरूर जवाब देता। मोहसिन रजा, कल्बे जव्वाद, मुख्तार अब्बास नकवी, एजाज अब्बास नकवी अपने तरीके से इस्लाम समझने और समझाने की कोशिश कर रहे हैं। यह इन्हीं पर छोड़ देना चाहिए।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story