Top

संघ कार्यकर्ताओं को अल्पसंख्यकों को निशाना बनाने की खुली छूट : सपा

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 3 Oct 2017 4:10 PM GMT

संघ कार्यकर्ताओं को अल्पसंख्यकों को निशाना बनाने की खुली छूट : सपा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) का कहना है कि भाजपा और आरएसएस की सोच मूलत: अल्पसंख्यक विरोधी है।

सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने मंगलवार को कहा, "प्रदेश सांप्रदायिक तनाव की आग में झुलस रहा है। लगभग एक दर्जन जिलों में डर और दहशत का वातावरण है। समाज का हर वर्ग प्रताड़ित है। युवाओं पर दमनचक्र चल रहा है। जहां तक अल्पसंख्यकों का सवाल है, भाजपा-आरएसएस की सोच मूलत: इनके विरोध की है। भाजपा सरकार ने भी प्रशासन और संघ कार्यकर्ताओं को खुली छूट दे दी है कि वे अल्पसंख्यकों को अपनी सनक का शिकार बनाएं।"

ये भी देखें: बीमार पति से मिलने के लिए शशिकला ने पैरोल का किया आवेदन

चौधरी ने कहा कि समाज को तोड़ने वाली गतिविधियों को भाजपा के शीर्ष स्तर से संरक्षण मिलने से पूरे प्रदेश में बड़े स्तर पर अराजकता का विस्तार हो रहा है। रह-रहकर उसका वीभत्स रूप दिखाई देने लगा है।

ये भी देखें: यूपी के डॉक्टरों के दिन सुधर सकते हैं, आईएमए कर रहा है संघर्ष

उन्होंने कहा कि पिछले दो दिनों में प्रदेश में सांप्रदायिकता का जैसा उभार देखने को मिला है उससे प्रदेश के एक बड़े वर्ग में बेचैनी और आतंक व्याप्त है। कानून के तहत समाज के सभी वर्गो को अपने-अपने धार्मिक विश्वास के अनुसार जुलूस निकालने की आजादी है। भाजपा सरकार ने उस पर भी आघात किया। सत्तारूढ़ दल के समर्थक कानून के साथ खिलवाड़ करने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story