Top

भय व आतंक के सहारे निकाय चुनाव जीतने की कोशिश में भाजपा : अखिलेश

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 27 Nov 2017 3:20 PM GMT

भय व आतंक के सहारे निकाय चुनाव जीतने की कोशिश में भाजपा : अखिलेश
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि निकाय चुनाव के पहले और दूसरे चरण के मतदान में जिस तरह का रुझान दिखाई दिया है, उससे स्पष्ट है कि प्रदेशवासियों में भाजपा के प्रति गहरा आक्रोश है और समाजवादी पार्टी के प्रति उनमें भरोसा है। उन्होंने कहा कि भाजपा भय व आतंक के सहारे निकाय चुनाव जीतने की कोशिश में है।

अखिलेश ने सोमवार को अपने बयान में कहा, ‘‘लोकतंत्र में चुनाव निष्पक्ष एवं स्वतंत्र रूप से हों, यह पहली शर्त है। लेकिन, निकाय चुनावों को अपने मनमाफिक प्रभावित करने के लिए सत्तारूढ़ दल को सत्ता का दुरुपयोग करने में जरा भी संकोच नहीं है। बड़ी संख्या में मतदाताओं को मतदान से वंचित रखा गया है। पूरी राज्य सरकार महीनों से प्रचार में लगी है। जनहित के तमाम काम ठप हैं।’’

ये भी देखें : वोट की अपील करने का क्या फायदा, जब बड़े-बड़े लोगों के नाम कट गए : अखिलेश

उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी की कथनी करनी में समानता और बेदाग छवि से जनता में मिल रहे समर्थन से भाजपा नेतृत्व सहमा है और वह भय व आतंक के सहारे जीतने की कोशिश में है।

अखिलेश ने कहा, ‘‘प्रदेश के मतदाता इस तथ्य से भली भांति अवगत हैं कि भाजपा राज में जनहित का एक भी उल्लेखनीय काम नहीं हुआ है। आठ महीनों से राज्य की भाजपा सरकार समाजवादी सरकार के कामों को ही अपना बताकर दिन काट रही है। उसने जनकल्याण की कई योजनाएं ठप कर दी हैं। विकास कार्यों में रोड़ा अटकाया जा रहा है। जनता इनसे निकायों में बेहतरी की उम्मीद कैसे कर सकती है?’’

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘सपा जाति धर्म की राजनीति नहीं करती है और नहीं समाज को बांटने का काम करती है। वह विकास और सबको सम्मान के साथ जीने का अवसर दिए जाने की पक्षधर है। भाजपा की तरह वह लोगों को भ्रमित नहीं करती है।’’

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story