Top

सहयोग सबका: कहीं बैंक मैनेजर खुद उठा रहे सिक्कों से भरे पैकेट, कहीं खाकी कर रही मदद

नोट बंदी के बाद जनता और बैंक कर्मचारियों की सहूलियत के लिए बैंक मैनेजेर से लेकर पुलिसकर्मी तक सहयोग कर रहे हैं। मंगलवार को प्रिंस रोड स्थित बॉम्बे मर्केंटाइल बैंक में अलग ही नजारा देखने को मिला। बैंक में भीड़ के कारण बहुत जल्द ही करेंसी खत्म हो रही है।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 15 Nov 2016 2:46 PM GMT

सहयोग सबका: कहीं बैंक मैनेजर खुद उठा रहे सिक्कों से भरे पैकेट, कहीं खाकी कर रही मदद
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मुरादाबाद: नोट बंदी के बाद जनता और बैंक कर्मचारियों की सहूलियत के लिए बैंक मैनेजर से लेकर पुलिसकर्मी तक सहयोग कर रहे हैं। मंगलवार को प्रिंस रोड स्थित बॉम्बे मर्केंटाइल बैंक में अलग ही नजारा देखने को मिला। बैंक में भीड़ के कारण बहुत जल्द ही करेंसी खत्म हो रही है। जिस कारण अब कई जगह दस-दस रुपए के सिक्के भी बांटे जाने लगे हैं। इसी के तहत ब्रांच में दस-दस के सिक्के मंगाए गए, लेकिन स्टाफ की कमी और लोगों की भीड़ को देखते हुए बैंक मैनेजर बदरे आलम ने खुद ही सिक्के कंधे पर रखकर चलना शुरू कर दिया। यह देख वहां खड़े लोग और बैंक कर्मचारी भी हतप्रभ रह गए।

यह भी पढ़ें ... नोट न बदलने पर छात्र ने किया सुसाइड, परिवार पीएम के साथ, और कुर्बानी को तैयार

वहीं दूसरी और मुरादाबाद में थाना नागफनी दीवान का बाजार क्षेत्र में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) में बैंक कर्मियों के साथ-साथ पुलिस भी जनता की सेवा करने में पीछे नहीं है। इस काम से जनता भी खुश है।

यह भी पढ़ें ... एक पुलिसवाला ऐसा भी, नोट बदलने के लिए घंटों लाइन में लगे थानाध्यक्ष

दरअसल 8 नवंबर की आधी रात से नोट बंदी के बाद अचानक ही लोगों की भीड़ हर बैंकों में उमड़ रही है। वहीं प्रिंस रोड स्थित बॉम्बे मर्केंटाइल बैंक में भी बड़ी संख्या में लोग करेंसी बदलने और अपने रुपए निकालने के लिए पहुंच रहे हैं। चूंकि छोटे नोटों की संख्या पूरी नहीं पड़ रही इसलिए अब दस रुपए के सिक्के लोगों को देना शुरू किए गए हैं। जब बैंक में दस के सिक्के से भरी गाड़ी पहुंची तो सिक्कों के बैग उठाने के लिए कोई कर्मचारी फ्री नहीं था।

यह भी पढ़ें ... VIDEO में देखिए ये है बैंक की जुगाड़ टेक्नोलॉजी, बैक डोर से बदले जा रहे नोट

ऐसे में ब्रांच मैनेजर बदरे आलम खुद ही सिक्कों के बैग उठाने के काम पर लग गए। उनके इस काम को देखकर हर कोई मुरीद हो गया। बदरे आलम ने कहा कि इस वक्त काम छोटा या बड़ा नहीं है। लोग काफी परेशान हैं और हम जल्द से जल्द उन्हें इस परेशानी से निकलना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि इस काम के लिए सभी का सहयोग चाहिए।

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story