Top

अपनी गन खुद बना रहे लोग

इस ग्रुप ने इसके अलावा प्लास्टिकोव नाम का विश्व का पहला थ्री डी प्रिंट करने योग्य एकेएम रिसीवर भी बनाया है। रिसीवर किसी बंदूक का वो हिस्सा होता है जहां बंदूक का मैकेनिज़्म रखा होता है। ये बंदूक का हृदय और दिमाग होता है। इस रिसीवर से एके-47 राइफल का एक वर्जन बनाया जा सकता है।

राम केवी

राम केवीBy राम केवी

Published on 25 May 2020 12:41 PM GMT

अपनी गन खुद बना रहे लोग
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ। महामारी के कारण अमेरिका में बंदूकों की सप्लाई अस्तव्यस्त हो गई है और बंदूक प्रेमी लोग घर पर ही बंदूकें बना रहे हैं।

खुद की बंदूक बनाने का रास्ता खुला था 2013 में जब बंदूक रखने की आज़ादी के प्रबल समर्थक 25 वर्षीय कोडी विल्सन ने लिबरेटर नामक बंदूक की डिजाइन अपने ओपेन सोर्स प्लेटफार्म डिफेंस कलेक्टिव में सार्वजनिक कर दी।

लिबरेटर बंदूक द्वितीय विश्व युद्ध के समय की एक मशहूर पिस्तौल के नाम पर थी। विल्सन ने जो डिज़ाइन सार्वजनिक की उसे अपना कर कोई भी व्यक्ति अपने घर पर थ्री डी प्रिंटिंग के जरिये लिबरेटर बंदूक बना सकता था।

विल्सन के कारनामे से अमेरिका का गृह विभाग हरकत में आ गया और विल्सन को पत्र लिख कर आदेश दिया कि वह अपने डिज़ाइन तत्काल वेब साइट से हटा दे।

एक लाख से ज्यादा ने डिजाइन फाइल्स डाउन लोड कीं

विल्सन ने ऐसा ही किया लेकिन तब तक चिराग से जिन्न बाहर आ चुका था। डिज़ाइन अपलोड होने और हटने के बीच दो दिन में एक लाख से ज्यादा लोगों ने लिबरेटर की डिज़ाइन फाइल्स डाउन लोड कर ली थीं।

तबसे ले कर आज तक ढेरों डिज़ाइनर हथियारों की अपनी खुद की डिज़ाइन बना कर बाँट रहे हैं। ये थ्री डी प्रिंटिंग डिज़ाइन होती हैं। इन डिजाइनरों में डिटेरेंस डिस्पेन्सेड नामक ग्रुप भी है।

इसने सबसे एडवांस्ड थ्री डी डिज़ाइन बना कर सार्वजनिक कर रखी है। ये 9 मिलीमीटर की सेमी ऑटोमेटिक गन है जिसमें 100 फीसदी ऐसे पुर्जों का प्रयोग लिया गया जो प्रतिबंधित नहीं हैं।

इस ग्रुप ने इसके अलावा प्लास्टिकोव नाम का विश्व का पहला थ्री डी प्रिंट करने योग्य एकेएम रिसीवर भी बनाया है। रिसीवर किसी बंदूक का वो हिस्सा होता है जहां बंदूक का मैकेनिज़्म रखा होता है। ये बंदूक का हृदय और दिमाग होता है। इस रिसीवर से एके-47 राइफल का एक वर्जन बनाया जा सकता है।

महामारी के दौर में अब थ्री डी पप्रिंटिंग से तमाम लोग खुद ये हथियार बना कर अपना शौक पूरा कर रहे हैं। अमेरिका में हथियार रखना एक बहुत बड़ी हॉबी है।

नीलमणिलाल की रिपोर्ट

राम केवी

राम केवी

Next Story