Top

फीफा विश्व कप : इसबार जो हुआ वो पहले कभी नहीं हुआ, आगे भी उम्मीद कम है

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 28 Jun 2018 1:38 PM GMT

फीफा विश्व कप : इसबार जो हुआ वो पहले कभी नहीं हुआ, आगे भी उम्मीद कम है
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : फीफा विश्व कप का 21वां संस्करण रूस में परवान चढ़ रहा है। अभी इसका ग्रुप दौर अपने अंतिम पड़ाव पर ही पहुंचा है लेकिन यहां तक आते-आते इस टूर्नामेंट में अभी तक सबसे ज्यादा आत्मघाती गोल का रिकार्ड टूट चुका है।

इस विश्व कप में अभी तक कुल आठ आत्मघाती गोल हो चुके हैं जो किसी भी फीफा विश्व कप में सबसे ज्यादा हैं। इन गोलों की संख्या और बढ़ सकती है क्योंकि अभी प्री-क्वार्टर फाइनल, क्वार्टर फाइनल, सेमीफाइनल और फाइनल बाकी हैं।

इससे पहले फ्रांस में 1998 में खेले विश्व कप में सबसे ज्यादा पांच आत्मघाती गोल हुए थे।

ये भी देखें : फीफा विश्व कप : अंतिम मैच में जीत दर्ज करना चाहेगा पोलैंड

इस विश्व कप का पहला आत्मघाती गोल दूसरे दिन आया था। जब ग्रुप-बी में मोरक्को और ईरान के बीच हुए मैच में मोरक्को के अजिज बोउहादोज ने अपने ही नेट में गेंद को डाल ईरान को जीत तोहेफ में दे दी थी। इस मैच में सिर्फ यही गोल हुआ था।

इसके बाद अगले दिन 16 जून को ग्रुप-सी में फ्रांस और आस्ट्रेलिया के बीच खेले गए मैच में आस्ट्रेलिया के अजीज बेहिच ने आत्मघाती गोल कर फ्रांस को 2-1 से जीत दे दी थी।

इसी दिन ग्रुप-डी में नाइजीरिया और क्रोएशिया के बीच खेले गए मैच में नाइजीरिया के ओगेनकारो इटेबो ने गोल कर क्रोएशिया को 1-0 से आगे करवा दिया था।

तीन दिन बाद ग्रुप-एच में पोलैंड और सेनेगल के बीच टूर्नामेंट का चौथा आत्मघाती गोल हुआ था जब पोलैंड के थियागो सियोनेक ने अपने ही नेट में गेंद डाल सेनेगल को गोल का तोहफा दिया था।

इसी दिन एक और मैच में ग्रुप-ए में मिस्र के अहमद फतेही ने गेंद को गोल से दूर भेजने के प्रयास में गेंद को नेट में ही डाल दिया था और मेजबान रूस को फायदा पहुंचाया था।

ये भी देखें : फीफा वर्ल्ड कप: मोरक्को से ड्रॉ खेलकर स्पेन प्री-क्वार्टर फाइनल में

अगल आत्मघाती गोल भी ग्रुप-ए के मैच में 25 जून को आया। रूस के डेनिस चेरिशेव ने 23वें मिनट में अपने ही पाले में गेंद डाल उरुग्वे को 2-0 से आगे कर दिया था।

बुधवार को स्वीडन और मेक्सिको के बीच हुए ग्रुप-एफ के मैच में मेक्सिको के अल्वारेज ने 74वें मिनट में आत्घाती गोल कर स्वीडन के खाते में इस मैच में तीसरा गोल दागा।

वहीं बुधवार को ही ग्रुप-ई के मैच में स्विट्जरलैंड और कोस्टा रिका का मैच 2-2 से बराबर रहा। इस ड्रॉ का कारण भी आत्मघाती गोल था जो 93वें मिनट में हुआ। इस मिनट में कोस्टा रिका को पेनाल्टी मिली जो बार से टकरा कर वापस आ रही लेकिन तभी गेंद गोलकीपर सोमेर की पीठ से टकरा कर नेट में चली गई और कोस्टा रिका को गोल तथा ड्रॉ मिल गया।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story