Top

फीफा विश्व कप: पहले मैच में भिड़ेंगे पोलैंड-सेनेगल

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 19 Jun 2018 6:52 AM GMT

फीफा विश्व कप: पहले मैच में भिड़ेंगे पोलैंड-सेनेगल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मॉस्को: लंबे अतंराल बाद वापसी कर रहीं पोलैंड और सेनेगल आज फीफा विश्व कप के 21वें संस्करण में ग्रुप-एच के मुकाबले में स्पार्टक स्टेडियम में एक दूसरे के खिलाफ विजयी वापसी की कोशिश में होंगे। सेनेगल 16 साल बाद तो पोलैंड 12 साल बाद विश्व कप खेल रही हैं।

यह भी पढ़ें: फीफा विश्व कप: रूस की नजरें दूसरी जीत पर

सेनेगल इससे पहले सिर्फ 2002 में विश्व कप में खेली थी और विश्व जगत को हैरान करते हुए क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया था। कोच एलियोउ सिसे की टीम इस बार भी उस सफलता को दोहराने और उससे आगे निकलने के मकसद से उतर रही है। इस राह में उसे पहली बाधा पोलैंड की पार करनी है।

पोलैंड ऐसी टीम है जिसने छह बार विश्व कप के लिए क्वालीफाई किया है और चार बार ग्रुप स्टेज को पार करने में सफल रही है। टीम के पास एक स्टार खिलाड़ी जो सेनेगल की राह में रोड़ा है। रोबर्ट लेवांडोस्की पोलैंड की नींव हैं जिन पर पूरी टीम निर्भर है।

टीम के कोच एडम नवाल्का हालांकि यह नहीं चाहेंगे कि टीम सिर्फ लेवांडोस्की के बल पर ही खेले। उन्होंने बकायदा अपनी टीम को इस स्टार खिलाड़ी की छांव से निकालने के प्रयास किए हैं। वो प्रयास कितने सफल होते हैं वो टीम के मैचों से पता चलेगा।

यह भी पढ़ें: फीफा विश्व कप: केन के दम पर इंग्लैंड ने ट्यूनीशिया को 2-1 से हराया

पोलैंड ने जब भी विश्व कप के अपने पहले मैच मे अंक हासिल किया है वो ग्रुप दौर से आगे गई है। ऐसा वो 1974, 1978, 1982, 1986 में कर चुकी है। वहीं 2002 और 2006 में उसे पहले मैच में ही हार मिली थी और टीम का सफर पहले दौर में ही खत्म हो गया था।

16 साल बाद दूसरी बार विश्व कप में पहुंचने वाली सेनेगल ने क्वालीफांग दौर में बेहतरीन प्रदर्शन किया था। सिसे की कोशिश टीम को उसी प्रदर्शन पर बनाए रखने की होगी जो उनके करियर की शायद अभी तक की सबसे बड़ी चुनौती साबित हो।

कोच आक्रामण करने की रणनीति के साथ उतरेंगे यह तय माना जा रहा है। इसलिए 23 सदस्यीय टीम में आठ फॉरवर्ड खिलाड़ी चुने गए हैं। टीम के आक्रमण की जिम्मेदारी इंग्लिश क्लब लिवरपूल के लिए खेलने वाले सादियो माने पर होगी जिन्होंने क्लब के लिए बीते सीजन में 20 गोल किए थे। उनके अलावा कालिडोयु काउलीबाली, चेइखोउ काउयाटे, मामे डियोफ पर भी बड़ी जिम्मेदारी है।

टीमें :-

पोलैंड :-

गोलकीपर : बाटरेस बियालोस्की, लुका फाबियांस्की, वोजसिएक जेकजेंसी

डिफेंडर : जान बेडनारेक, बाटरेज बेरेसजिंस्की, थियागो सियोनेक, मार्सिन कामिंस्की, लुकाज पिस्जेक, आर्तुर जेडरजेस्की और मीकल पाजदान

मिडफील्डर : जाकुब ब्लास्केवोस्की, जाकेक गोलारस्की, कामिल ग्रोसिकी, ग्रेजगोर्ज क्रेचोवियाक, रफाल कुर्जावा, कारोल लिनेटी, स्लावोमीर पेस्को, मेकेइज रेबुस, पियोटर जिएलिंस्की

फारवर्ड : डेविड कोवनाकी, रॉबर्ट लेवांडोस्की, अर्कादिउस्ज मिलिक, लुकाज टियोडोर्की।

सेनेगल:-

गोलकीपर : डिएलो, नडियाये, गोमिस,

डिफेंडर : सिस, काउलीबाली, कारा, साबाली, गासामा, एम. वागुए,

मिडफील्डर : गाना, एस, साने, सी. काउयाते

फॉरवर्ड : साउ, मामे डियाफे, सादियो माने, कोनाटे, साखो, इस्माइला, नियांग, केइटा ब्लाडे।

--आईएएनएस

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story