Top

इंडियन हैंडबाल टीम को एशियन गेम्स में भेजने पर निर्णय ले आईओए 

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 17 July 2018 4:32 PM GMT

इंडियन हैंडबाल टीम को एशियन गेम्स में भेजने पर निर्णय ले आईओए 
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन को भारतीय हैंडबाल टीम (मेन्स) को एशियन गेम्स-2018 में भेजने के संबंध में तीन दिनों में निर्णय लेने का आदेश दिया है।

यह आदेश जस्टिस विक्रम नाथ और जस्टिस आरएस चौहान की बेंच ने हैंडबाल फेडरेशन ऑफ इंडिया की ओर से दाखिल जनहित याचिका को पर दिया।

ये भी देखें :माफिया डॉन बबलू श्रीवास्तव से जुड़ी ये 30 बातें, खड़े कर देंगी रौंगटे

ये भी देखें : माफिया डॉन बृजेश सिंह से जुड़ी ये 30 बातें, लगती फिल्मी हैं लेकिन हैं नहीं

याची एसोसिएशन का कहना था कि इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन ने निर्णय लिया है कि पिछले एशियन रैंकिंग में जो टीमें टॉप 8 में हैं, वे ही इस बार के एशियन गेम्स में भेजी जाएंगी।

याची एसोसिएशन की टीम की रैंकिंग 12 थी लेकिन 10 जुलाई 2018 को एशियन हैंडबाल फेडरेशन ने एसोसिएशन को पत्र लिखकर बताया कि पांच टीमों के भाग न लेने के कारण अब उसकी रैंकिंग सात हो गई है। याची की ओर से कहा गया कि इस संबंध में आईओए के समक्ष उसका अनुरोध लंबित है।

वहीं आईओए की ओर से पेश अधिवक्ता का कहना था कि एशियन गेम्स में प्रतिभागियों को भेजने की अंतिम तारीख 10 जुलाई थी। लिहाजा आईओए अब याची के अनुरोध पर विचार करने की स्थिति में नहीं होगी। इस पर कोर्ट ने याची द्वारा दिए जा रहे सभी दलीलों को ध्यान में रखते हुए, निर्णय लेने का आदेश दिया। कोर्ट ने कहा कि आईओए तीन दिनों में विचार कर निर्णय ले कि इंडियंस मेन्स हैंडबाल टीम 18वें एशियन गेम्स के लिए भारतीय दल का हिस्सा हो सकती है या नहीं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story