रियो ओलंपिक में आज भी हो चक दे इंडिया, 7.30 बजे जर्मनी से भिड़ेगी हॉकी टीम

रियो डी जिनेरियो: भारतीय पुरुष हॉकी टीम की रियो ओलंपिक में शुरुआत जीत के साथ हुई। 36 साल का सूखा खत्म करने के इरादे से रियो गई मेंस हॉकी टीम आज जर्मनी से भिड़ेगी। भारतीय समयानुसार यह मैच 7.30 बजे से शुरू होगा। इसी साल चैंपियंस ट्रॉफी में दोनों टीमें आमने-सामने हुईं थी, जिसमें मुकाबला 3-3 से ड्रॉ रहा था।

कोच ओल्टमैंस ने आयरलैंड के खिलाफ मिली जीत के बाद कहा था कि टीम को ओलंपिक में 100 फीसदी से भी ज्यादा देना होगा, अगर सपनों को पूरा करना है। हर मैच में खिलाड़ियों को अपना बेस्ट देना होगा। उन्होंने आयरलैंड के खिलाफ हुए मैच का वीडियो दिखाकर खिला़ड़ियों को अपनी गलतियों से सबक लेने के लिए कहा। रियो ओलंपिक के अपने पहले मैच में जहां भारत ने आयरलैंड को मात दी थी तो वहीं जर्मनी से कनाडा को 6-2 से हराया था।

हॉकी टीम का अगला मैच 9 अगस्त को अर्जेंटीना से होगा और फिर 11 अगस्त को नीदरलैंड्स से दो-दो हाथ करेगी। क्वा वहीं, ग्रुप स्टेज का आखिरी मैच कनाडा से 12 को होगा। क्वार्टरफाइनल में पहुंचने के लिए भारत को 5 में से 2 मैच जीतने होंगे।बता दें कि 2014 एशियन गेम्स में गोल्ड जीतकर हॉकी टीम ने ओलंपिक का टिकट हासिल किया था।

ग्रुप-बी में है हॉकी टीम
भारतीय हॉकी टीम को ग्रुप-बी में रखा गया है। भारत के अलावा इस ग्रुप में अर्जेंटीना, कनाडा, जर्मनी, आयलैंड और नीदरलैंड्स की टीमें हैं। वहीं ग्रुप-ए में ऑस्ट्रेलिया, बेल्जियम, ब्राजील, ग्रेट ब्रिटेन, न्यूजीलैंड और स्पेन को रखा गया है।

जोश में हैं टीम
भारतीय हॉकी टीम ने इसी साल लंदन में हुई चैंपियंस ट्रॉफी में सिल्वर मेडल जीता था। फाइनल मुकाबले में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को कड़ी टक्कर दी थी। वर्ल्ड रैकिंग में टीम 5वें नंबर पर है। लंबे समय बाद टीम ने टॉप 5 में जगह बनाई। रियो भेजी गई इस टीम में जोश और अनुभव का अच्छा तालमेल है। कप्तान श्रीजेश और वीआर रघुनाथ पर जीत का सबसे ज्यादा दारोमदार होगा।

ओलंपिक में भारत का इतिहास
भारतीय हॉकी टीम ने ओलंपिक में आठ गोल्ड मेडल जीते हैं। इसके अलावा एक सिल्वर और दो ब्रांज मेडल भी भारत की झोली में हैं। 1928 में हॉकी टीम ने पहली बार ओलंपिक गोल्ड मेडल अपने नाम किया था। इसके बाद 1956 तक ओलंपिक में टीम को कोई भी नहीं हरा सका। भारत ने 1975 हॉकी वर्ल्ड कप पर भी अपना कब्जा जमाया था, लेकिन पिछले 36 साल से भारत को हॉकी में एक भी मेडल नसीब नहीं हुआ है।

    Tags: