Top

बर्थडे पर जिमनास्ट दीपा को कोच ने किया सबसे दूर, कहा- गोल्ड जीतकर मनाना जश्न

Rishi

By Rishi

Published on 9 Aug 2016 5:50 AM GMT

बर्थडे पर जिमनास्ट दीपा को कोच ने किया सबसे दूर, कहा- गोल्ड जीतकर मनाना जश्न
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

रियो डि जिनेरियो: रियो ओलंपिक में भारत को लगातार निराशा हाथ लग रही है। शूटिंग में पदक की काफी उम्मीद थी। 2008 में गोल्ड मेडलिस्ट अभिनव बिंद्रा फाइनल तक भी पहुंचे, लेकिन मेडल पर निशाना नहीं लग सका। ऐसे में अब देश की निगाहें जिमनास्ट दीपा कर्माकर पर लगी हुई हैं, जिन्होंने वॉल्ट इवेंट के फाइनल में जगह बनाई है। आज दीपा रियो में अपना 23वां जन्मदिन मना रही हैं। बर्थडे से पहले ही उन्होंने फाइनल में जगह बनाकर एक नया इतिहास रचा।

दीपा कर्माकर के कोच बिश्वेश्वर नंदी फाइनल से पहले उनकी खास तैयारी करा रहे हैं। उन्होंने दीपा को किसी से बात करने की इजाजत नहीं दी, क्योंकि वो यह नहीं चाहते हैं कि फाइनल से पहले दीपा का ध्यान किसी भी वजह से भटके और उसका फोकस बिगड़ जाए।

मोबाइल से निकाला सिम कार्ड

दीपा के कोच नंदी ने उनके मोबाइल से सिमकार्ड भी निकाल दिया है। इसकी वजह से वो किसी की बर्थडे विशेज भी नहीं ले पा रही हैं। कोच के मुताबिक, बर्थडे सेलिब्रेशन तब दोगुना हो जाएगा तो दीपा देश के माथे पर सोने के मेडल से तिलक करेगी। दीपा को किसी भी करीबी दोस्त से भी बात करने की इजाजत नहीं दी गई है। बता दें कि दीपा के पिता वेटलिफ्टिंग कोच हैं और दो बहनों में छोटी हैं।

नीचे पढ़िए, दीपा कर्माकर को सोशल मीडिया पर मिल रहीं बर्थडे विशेज....

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story