Top

RIO: गगन नारंग-चैन सिंह का सफर खत्म, 50 मी. राइफल प्रोन इवेंट से बाहर

aman

amanBy aman

Published on 12 Aug 2016 1:26 PM GMT

RIO: गगन नारंग-चैन सिंह का सफर खत्म, 50 मी. राइफल प्रोन इवेंट से बाहर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

रियो डी जेनेरियो : भारतियों के लिए शूटिंग से एक बार फिर निराशाजनक खबर आई है। शूटर गगन नारंग और चैन सिंह 50 मीटर राइफल प्रोन क्‍वालिफिकेशन राउंड से आगे नहीं बढ़ सके। ये दोनों ही निशानेबाज फाइनल के लिए क्‍वालिफाई करने में नाकाम रहे। गगन नारंग इस इवेंट में 623.1 के स्‍कोर के साथ 13वें स्‍थान पर रहे। जबकि चैन सिंह का प्रदर्शन तो और भी बुरा रहा। वे 36वें स्‍थान पर रहे।

इस इवेंट में रूस के सर्गेई कामेंस्‍की 629 के स्‍कोर के साथ पहले और रूस के ही किरिल ग्रिगोरियन 628.9 के स्‍कोर के साथ दूसरे स्‍थान पर रहे। कोरिया के किम जोंग युन 628.1 के स्‍कोर से तीसरे नंबर पर रहे। वो फाइनल के लिए क्‍वालिफाई करने में कामयाब रहे। मुकाबले में टॉप -8 में रहे शूटर फाइनल के लिए क्‍वालिफाई करने में सफल रहे।

तीरंदाजी में भी मिली निराशा

तीरंदाज अतानु दास का भी प्री-क्वार्टरफाइनल में सफर थम गया। कोरिया के स्युंग युन ली के बीच कांटे का मैच हुआ, लेकिन जीत उनके हाथ से फिसल गई। कोरियाई तीरंदाज ने मैच 28-30, 30-28, 27-27, 27-28, 28-28 अंको के अंतर से मैच जीता। अतानु की हार के साथ ही रियो ओलिंपिक में भारतीय तीरंदाजी दल का सफर भी थम गया। इससे पहले दीपिका कुमारी भी प्री-क्वार्टरफाइनल में हार गई थीं।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story