उत्तर प्रदेश

इसमें शक नहीं कि करोड़ों मजदूरों के भरण-पोषण को सबसे पहली प्राथमिकता मिलनी चाहिए लेकिन शहरों में चल रहे उद्योग-धंधों को भी किसी तरह चालू किया जाना चाहिए। इसका भी कुछ पता नहीं कि जिन मजदूरों को एक बार शहर की हवा लग गई है, वे गांवों में टिके रहना पसंद करेंगे या नहीं ?

सुशील कुमार मेरठ: उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा-रालोद गठबंधन की गांठ खुलने से 2022 के विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बीजेपी खेमे में सुकून दिख रहा है। दरअसल,सपा-बसपा-रालोद की राहें जुदा होने भाजपा की बल्ले-बल्ले मानी जा रही है। भाजपा का गढ़ कहे जाने वाले वेस्ट यूपी की बात करें तो भाजपा के चक्रव्यूह भेदने में गठबंधन …