action

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि कोरोना वायरस महामारी को रोकने के लिए भारत लगातार आक्रामक होकर काम करे। WHO के इमरजेंसी हेल्थ प्रोग्राम के एग्जेक्यूटिव डायरेक्टर माइक रेयान ने स्विटजरलैंड के जेनेवा में 23 मार्च को प्रेस कांफ्रेंस में भारत को लेकर सीधे बात की। इससे पहले रेयान ने दुनिया भर में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण पर कहा था

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि सतर्कता व सावधानी से कोरोना वायरस पर नियंत्रण पाया जा सकता है। उन्होंने प्रदेश के सभी जनपदों के जिलाधिकारियों को अपने-अपने जनपदों में कोरोना वायरस से बचाव के सम्बन्ध में समयबद्ध ढंग से पूरी तैयारी सुनिश्चित किए जाने के निर्देश दिए हैं।

दो जन्म प्रमाण पत्र के मामले में सपा सांसद आजम खां और उनके परिवार के दो सदस्यों की अग्रिम जमानत याचिका खारिज होने के बाद आज इस मुकदमें में सुनवाई होगी।

इंसान अगर आरो का पानी पिए, महलो में हर सुख सुविधा के साथ रहे तो की आश्चर्य की बात नहीं होती, लेकिन ये सारी सुविधाएं अगर जानवरों को मिले तो इसमें आश्चर्य जरूर होगा। पूना में भाग्यलक्ष्मी नाम से चल रही डेयरी में रहने वाली गायों को कुछ सी तरह की सुविधाएं दी जाती है।

हाल ही में शराब पीने की प्रतियोगिता कराए जाने की बात सामने आने के बाद राज्य सरकार ने इसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने को कहा है।

 राष्ट्रपति को पत्र लिखने वालों में154 पूर्व जज, एक्स आर्मी अफसर और कई पूर्व आईपीएस शामिल हैं। उन्होंने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से लोकतांत्रिक संस्थानों की रक्षा करने के लिए ऐसे उपद्रवियों के खिलाफ कार्रवाई शुरू करने का आग्रह किया है।

तुर्की लगातार सीरिया में बमबारी कर रहा है। अब अमेरिका ने तुर्की को कड़ी चेतावनी दी है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने तुर्की को पहले ही चेतावनी दी थी कि अगर उसने अपना हमला नहीं रोका तो वह उसे बर्बाद कर देंगे।

वाराणसी मे पीडब्लूडी ठेकेदार की आत्महत्या के मामले में योगी सरकार ने कड़ी कार्रवाई करते हुए पांच इंजीनियरों के अलावा दो अन्य कर्मचारियों को निलम्बित कर दिया है। साथ ही प्रशासनिक आधार पर अम्बिका सिंह, मुख्य अभियन्ता, वाराणसी को प्रमुख अभियन्ता (विकास) एवं विभागाध्यक्ष कार्यालय से सम्बद्ध किया गया है।

उत्तर प्रदेश सरकार के प्रतीक चिह्न (लोगो) का दुरुपयोग करने वालों की अब खैर नहीं होगी। दोषी पाए जाने पर दो वर्ष की सजा व पांच हजार रुपये जुर्माना हो सकता है।