adr

संजय सिंह, स्टेट इंचार्ज, एडीआर का कहना है कि मुझे लगता है कि उत्तर प्रदेश पर बीजेपी का खास ध्यान है। पिछली बार 80 में से रिकॉर्ड 71 सीटों पर बीजेपी ने जीत हासिल की थी। लेकिन, इस बार 2014 की तरह राह आसान नहीं है। पिछली बार जहां भाजपा मोदी लहर के रथ पर सवार थी, तो इस बार स्थिति वैसी नहीं है।

लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में कुल 928 प्रत्याशियों में से 23 फीसद दागदार प्रत्याशियों की संख्या 210 है। 17 फीसद गंभीर आपराधिक छवि के प्रत्याशियों की संख्या 158 है। 12 प्रत्याशियों ने दोषी ठहराए जाने वाले मामलों की जानकारी दी है।

गुजरात की सभी 26 लोकसभा सीटों पर तीसरे चरण में 23 अप्रैल को मतदान होना है। विश्लेषण के अनुसार गंभीर मामलों का सामना कर रहे 34 उम्मीदवारों में 19 निर्दलीय हैं। इसके बाद कांग्रेस (नौ उम्मीदवार) और भाजपा (पांच उम्मीदवार) का नंबर आता है।

दादरा व नगर हवेली में मौजूदा सरकार ने मतदाता प्राथमिकताओं जैसे कृषि, रोजगार, सड़क अवसंरचना और कानून व्यवस्था सहित लगभग सभी शासन मापदंडों पर कैसा प्रदर्शन किया है। यहां हम आपको एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) की एक रिपोर्ट के माध्यम से बताने जा रहे हैं।

एडीआर के इस सर्वेक्षण में 534 लोकसभा निर्वाचन-क्षेत्रों को सम्मिलित किया गया, जिसमें विभिन्न जनसांख्यिकी के 2,73,479 मतदाताओं ने भाग लिया। इस सर्वेक्षण के तीन मुख्य उद्देश्य थे, शासन के विशिष्ट मुद्दों पर मतदाताओं की प्राथमिकताएं, उन मुद्दों पर सरकार के प्रदर्शन की मतदाताओं द्वारा रेटिंग और मतदान के व्यवहार को प्रभावित करने वाले कारक।

लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में उत्तर प्रदेश के उम्मीदवारों में मथुरा से भाजपा की उम्मीदवार हेमा मालिनी सबसे अमीर हैं। इसी तरह से इस चरण में सबसे गरीब उम्मीदवार अम्बेडकरी हसनुराम हैं, जो आगरा से निर्दल उम्मीदवार के रूप में चुनाव मैदान में है।

तमिलनाडु में मौजूदा सरकार ने मतदाता प्राथमिकताओं के आधार पर कृषि, रोजगार, सड़क अवसंरचना और कानून व्यवस्था सहित लगभग सभी शासन मापदंडों पर कैसा प्रदर्शन किया है। ये एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) की एक रिपोर्ट में दर्शाया गया है )।

इसके अलावा, सरकार शहरी मणिपुर में घरेलू उपयोग (1.71) के लिए बेहतर कानून व्यवस्था/पुलिस (1.62) और बिजली उपलब्ध कराने में खराब प्रदर्शन किया गया है।

बेहतर रोजगार के अवसर के शहरी मतदाताओं की प्राथमिकताओं पर सरकार के प्रदर्शन (2.35 5 के पैमाने पर), यातायात संकुलन (2.27), और बेहतर अस्पतालों / प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों (2.31) औसत से नीचे के रूप में दर्जा दिया गया था।

उत्तर प्रदेश इलेक्शन वाॅच और एसोसिएशन फाॅर डेमोक्रेटिक रिर्मोेम्स ने उत्तर प्रदेश लोकसभा चुनाव के पहले चरण में 96 उम्मीदवारों के शपथपत्रों का विश्लेषण किया, जो प्रथम चरण के सहानपुर, कैराना, मुजफ्रफरनगर, बिजनौर, मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, गौतम बुद्ध नगर निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे है।