ajit doval

कोरोना महामारी के बीच आतंकवाद के खिलाफ जारी जंग में भारत को बड़ी कामयाबी मिली है। म्यांमार ने शुक्रवार को 22 आतंकवादियों को भारत को सौंप दिया। पूर्वोत्तर क्षेत्रों में भी भारत आतंकवाद से खासा प्रभावित है।

निजामुद्दीन क्षेत्र में आयोजित मरकज (धार्मिक जलसा) के प्रमुख मौलाना साद ने जब दिल्ली पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों की बंगलेवाली मस्जिद को खाली करने की बात को ठुकरा दिया। तब गृह मंत्री अमित शाह ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजित डोभाल को इस काम की जिम्मेदारी सौंपी थी।

देश की राजधानी दिल्ली का नार्थ-ईस्ट इलाका पिछले चार दिनों से हिंसाग्रस्त है। मंगलवार को हालात बेकाबू होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल को हालात संभालने का आदेश दिया।

सर्जिकल स्ट्राइक के मास्टर माइंड माने जाने वाले राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल का जन्म आज ही के दिन 20 जनवरी को हुआ था। वह एक ऐसे भारतीय हैं, जो खुलेआम पाकिस्तान को बलूचिस्तान छीन लेने की चेतावनी देने से गुरेज़ नहीं करते।

अमित शाह  गृह मंत्रालय के अधिकारियों के साथ कर रहें  बैठक नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और गृह मंत्रालय के अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे हैं। यह बैठक गृह मंत्रालय में हो रही है। बैठक में आईबी चीफ अरविंद कुमार और अर्धसैनिक बलों के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद …

केंद्र सरकार जल्द देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) के नाम का ऐलान कर सकती है। पिछले दिनों ही सरकार ने पहले सीडीएस की नियुक्ति को लेकर एक समिति का गठन किया था।

अयोध्या पर आए उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद रविवार को दिल्ली में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल के आवास पर बाबा रामदेव, स्वामी परमात्मानंद, स्वामी अवधेशानंद, शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जवाद और अन्य धर्मगुरुओं की बैठक हुई।

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल के दिल्ली स्थित आवास पर बैठक बुलाई गई है। इस बैठक में योग गरु बाबा रामदेव, हिन्दू धर्म आचार्य सभा के संयोजक स्वामी परमात्मानंद सहित कई नेता पहुंचे हैं।