america and china

अमेरिकी नौसेना ने दुनियाभर में अपने सैन्‍य ताकत का प्रतीक कहे जाने वाले दो एयरक्राफ्ट कैरियर को दक्षिण चीन सागर में युद्धाभ्‍यास के लिए भेजा है।

अमेरिकी सीनेट से यह महत्वपूर्ण बिल पास होने के बाद अब चीन की कंपनियों को अमेरिकी बाजार में लिस्ट होने के लिए वहां के लेखा परीक्षण नियमों का पालन करना होगा। महत्वपूर्ण बात यह रही कि इस बिल को सर्वसम्मति से पारित किया गया है।

भ्रष्टाचार व घोटाला भारत की पहचान है। यहां सार्वजनिक बैंकों में घोटाले की खबरें आए दिन आती रहती हैं, और कोई निदान नहीं निकलता है।लेकिनयहां से हटकर चीन में घोटाले में दोषी पाएं बैंक प्रमख को मौत की सजा मिली है।

ताइवान ने कहा है कि दो चीनी लड़ाकू विमानों ने दोनों पक्षों को विभाजित करने वाली समुद्री रेखा को पार किया, जिसके बाद अमेरिका का यह बयान सामने आया है।

न्यूयॉर्क : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के चीन पर अतिरिक्त आयात शुल्क लगाए जाने के कदम के बाद मंगलवार को दुनियाभर के शेयर बाजारों में गिरावट दर्ज की गई। बीबीसी के मुताबिक, डॉव जोंस में 300 से अधिक अंकों यानी 1.6 फीसदी की गिरावट रही। ट्रंप ने चीन पर 200 अरब डॉलर के चीनी सामान पर …