america

विश्व बैंक ने अनुमान जाहिर किया है कि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के कारण इस साल चीन तथा अन्य पूर्वी एशिया प्रशांत देशों में अर्थव्यवस्था की रफ्तार बहुत धीमी रहने वाली है जिससे लाखों लोग गरीबी की ओर चले जाएंगे।

पूरी दुनिया आज कोरोना वायरस के कहर से परेशान है। अभी भी इस महामारी के थमने का कोई नामों-निशान नहीं दिख रहा है। बता दें कि दुनिया के 200 देश आज कोरोना की चपेट में है।

अमेरिका दुनिया के सबसे ताकतवर देश माना जाने वाला अमेरिका कोरोना के कहर के सामने कमजोर पड़ गया है। कोरोना से जंग में इस शक्तिशाली देश के पास संसाधनों की इस कदर कमी हो गयी है कि लोग सड़क और पार्कों पर उतर आए हैं।

अमेरिका में लॉक डाउन की घोषणा होने से पहले ही लोग बंदूकों की ख़रीदारी करने लिए दुकानों पर टूट पड़े। कई राज्यों में टॉइलेट पेपर से ज्यादा मांग बंदूकों और कारतूसों की हो गई। गन स्टोर्स के बाहर ग्राहकों की वैसे ही लाइन लगने लगी जैसे कि सुपर मार्केट्स में लग रही थी।

 कोरोनावायरस के केस पूरी दुनिया में थमने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। सब उसी दिन का इंतजार कर रहें है जिस दिन इस वायरस केा खात्मा हो और इसका सटीक इलाज मिल जाए। 199 देशों में लगभग 7 लाख 85 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हैं।

कहा जाता है कि आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है। लेकिन विज्ञान के चमत्कार जितना फायदा पहुंचाते हैं, उतना ही कभी-कभी इसके परिणाम घातक भी हो जाते हैं।

अमेरिका में भी हालात बहुत बुरे हो गए हैं। लेकिन इस बीच अमेरिका से अच्छी खबर आ रही है। अमेरिका के डॉक्टरों को इस वायरस से लड़ने के लिए दो अलग-अलग दवाइयां मिली हैं इन दोनों दवाईयों को एक साथ मिलाकर मरीज को देने पर अच्छे नतीजे सामने आए हैं।

पूरी दुनिया पर कोरोना वायरस ने आफत मचा के रखी है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने रविवार को कहा कि वे प्रिंस हैरी और मेगन मर्केल के सुरक्षा का खर्च नहीं उठाएंगे। इसके बाद हैरी और मेगन ने अमेरिका के कैलिफोर्निया में रहने का प्लान बदल दिया।

चीन के वुहान से शुरू हुए कोरोना वायरस ने आज पूरी दुनिया में तबाही मचा के रखी है। हर देश इस महामारी से जूझ रहा है। लेकिन खबर ये आ रही है कि चीन में एक बार फिर से उसी तरह से मीट बाजार में जंगली जानवरों की बिक्री शुरू हो गई है।

कोरोना वायरस से इस समय अमेरिका सबसे ज्यादा बुरी तरह ग्रस्त है। अमेरिका का न्यूयॉर्क शहर इसका केंद्र बना है। कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या सिर्फ अमेरिका में ही 1,23,000 से ज्यादा हो गई है। जिनमें से 2,200 से ज्यादा लोगों की मौते हो चुकी है।